विशेष उपलब्धि

”खुश रहने के सौ बहाने हैं,
किसी एक का दामन पकड़कर देखो तो सही,
कितने रंगीन फ़साने हैं!”
फेसबुक पर यह पढ़ते ही विन्नी को शकुंतला आंटी की स्मृति हो आई.
आंटी ने खुश रहने के सौ बहाने ढूंढ लिए थे. पति के ऑफिस में अवैतनिक रूप से कुछ महिलाओं को लंच टाइम में सिलाई सिखाकर वे भी हैड कहलाने लगी थीं. पति ऑफिस के हैड, खुद महिलाओं की हैड के साथ ही कॉलोनी के मंदिर की भी हैड, बेटे कॉलोनी की एसोसिएशन के हैड, बहुएं किट्टी पार्टी की हैड यानी पूरा परिवार हैड.
पूरा परिवार हैड हो तो हैड में अहंकार आना त्तो स्वाभाविक ही है. फिर विकास के नाम पर लूट-खसोट भी शुरु हो जाती है. आंटी इसे अपनी विशेष उपलब्धि मानती थीं, कि उन्हें हर काम के लिए चंदा उगाहने में महारत हासिल है. एक दिन खुद ही आंटी ने भरी सभा में कहा था- ”लोग कहते हैं, मैं जब भी किसी काम के लिए चंदा लेती हूं, मेरी एक मंजिल खड़ी हो जाती है.” सचमुच उनके घर की एक मंजिल का काम उन दिनों जोरों पर था. जिनका इस तरफ ध्यान नहीं था, उनका ध्यान भी आकर्षित हुआ.
आकर्षण बद्दुआओं का भी हुआ. वे बीमार हुईं, पति भी बीमार हुए. दोनों के लिए अलग-अलग कमरे, अलग-अलग परिचारक. रात के परिचारक अलग, दिन के अलग. आधुनिक बहू-बेटों को कहां इतना समय!
पति का देहांत हुआ, विन्नी ने भी सुना. विदेश में होने के कारण वह क्रिया पर नहीं जा पाई, बाद में अवसर मिलने पर गई. घर के सुरक्षा गॉर्ड ने काम पूछा.
”आंटी से अफ़सोस जताना है.” विन्नी ने कहा.
”उनसे तो आप मिल ही नहीं सकतीं, उन्हें खुद नहीं पता कि उनके पति का देहांत हो चुका है, बहुएं किट्टी पार्टी में गई हैं.”
विन्नी को लगा खुश रहने के सौ बहाने खामोश हो गए हैं, अहंकार मौन हो गया है, विशेष उपलब्धि गुमनाम हो गई है,

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।