कविता

समंदर

जैसे हैं बादल गगन पर

वैसे हैं सागर की लहरें

दोनों का तन-मन सुहावन

करती हैं सूरज की किरणें

जैसे सुबहें होंगी दुपहर

वैसे संध्या होंगी रातें

जब भी रोते हैं वे बादल

चुपके सहता है समंदर

परिचय - वत्सला सौम्या समरकोन

सहायक व्याख्याता, हिन्दी विभाग, कॅलणिय विश्वविद्यालय, श्री लंका। उद्घोषक, श्री लंका ब्रोडकास्टिंग कोपरेशन (रेडियो सिलोन)

Leave a Reply