रवीश कुमार को रैमॉन मैग्सेसे पुरस्कार

५ दिसम्बर १९७४ को बिहार के मोतिहारी में जन्मे रवीश कुमार एक भारतीय टीवी एंकर, लेखक और पत्रकार हैं, जो भारतीय राजनीति और समाज से संबंधित विषयों को मुखरता के साथ जनता के सामने रखते हैं. रवीश एनडीटीवी समाचार नेटवर्क के हिंदी समाचार चैनल NDTV इण्डिया में वरिष्ठ कार्यकारी संपादक है, और चैनल के प्रमुख कार्यक्रमों जैसे ‘हमलोग’ और ‘रवीश की रिपोर्ट’ के होस्ट रहे हैं. रवीश कुमार का ‘प्राइम टाइम’ शो वर्तमान में काफी लोकप्रिय है. २०१६ में “द इंडियन एक्सप्रेस”  ने अपनी ‘१०० सबसे प्रभावशाली भारतीयों’ की सूची में उन्हें भी शामिल किया था. रवीश कुमार ने हिंदी टेलीविज़न पत्रकारिता को नया मुकाम दिया. उन्होंने लोयोला हाई स्कूल, पटना, से अपनी प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त की, फिर उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए वह दिल्ली आ गये. दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक उपाधि प्राप्त करने के बाद उन्होंने भारतीय जन संचार संस्थान से पत्रकारिता में स्नातकोत्तर डिप्लोमा प्राप्त किया.

अबतक उन्हें निम्न पुरस्कारों से विभूषित किया गया है.

  • हिंदी पत्रिका रंग में गणेश शंकर विद्यार्थी पुरस्कार २०१० जो उन्हें २०१४ में राष्ट्रपति के हाथों प्रदान किया गया.
  • पत्रिका रंग में रामनाथ गोयंका पुरस्कार २०१३
  • इंडियन टेलीविज़न पुरस्कार २०१४ – उत्तम हिंदी एंकर
  • कुलदीप नायर पुरस्कार २०१७
  • रेमन मैग्सेसे पुरस्कार – अगस्त २०१९ – ‘रैमॉन मैग्सेसे’ पुरस्कार को एसिया का ‘नोबेल’ पुरस्कार के बराबर माना जाता है.

पत्रकारिता जगत में अपनी अलग पहचान बना चुके एनडीटीवी इंडिया के मैनेजिंग एडिटर रवीश कुमार  को इस बार वर्ष 2019 के ‘रैमॉन मैगसेसे’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया. एनडीटीवी के रवीश कुमार को ये सम्मान हिंदी टीवी पत्रकारिता में उनके योगदान के लिए मिला है. ‘रैमॉन मैगसेसे’ को एशिया का नोबेल पुरस्कार भी कहा जाता है. रैमॉन मैगसेसे पुरस्कार एशिया के व्यक्तियों और संस्थाओं को उनके अपने क्षेत्र में विशेष रूप से उल्लेखनीय कार्य करने के लिए प्रदान किया जाता है. यह पुरस्कार फिलीपीन्स के भूतपूर्व राष्ट्रपति रैमॉन मैगसेसे की याद में दिया जाता है.

पुरस्कार संस्था ने ट्वीट कर बताया कि रवीश कुमार को यह सम्मान “बेआवाजों की आवाज बनने के लिए दिया गया है.” रैमॉन मैगसेसे अवार्ड फाउंडेशन ने इस संबंध में कहा, “रवीश कुमार का कार्यक्रम ‘प्राइम टाइम’ ‘आम लोगों की वास्तविक, अनकही समस्याओं को उठाता है.” साथ ही प्रशस्ति पत्र में कहा गया, ‘अगर आप लोगों की आवाज बन गए हैं, तो आप पत्रकार हैं.’  रवीश कुमार ऐसे छठे पत्रकार हैं जिनको यह पुरस्कार मिला है. इससे पहले अमिताभ चौधरी (1961), बीजी वर्गीज (1975), अरुण शौरी (1982), आरके लक्ष्मण (1984), पी. साईंनाथ (2007) को यह पुरस्कार मिल चुका है.

एनडीटीवी के लिए भी यह एक गौरव का दिन है. रवीश कुमार ने बहुत लंबा सफर तय किया है. बहुत नीचे से उन्होंने शुरुआत की और यहां तक पहुंचे हैं. वर्ष 1996 से रवीश कुमार एनडीटीवी से जुड़े रहे हैं. शुरुआती दिनों में एनडीटीवी में आई चिट्ठियां छांटा करते थे. इसके बाद वो रिपोर्टिंग की ओर मुड़े और उनकी सजग आंख देश और समाज की विडंबनाओं को अचूक ढंग से पहचानती रही. उनका कार्यक्रम ‘रवीश की रिपोर्ट’ बेहद चर्चित हुआ और हिंदुस्तान के आम लोगों का कार्यक्रम बन गया.

बाद में एंकरिंग करते हुए उन्होंने टीवी पत्रकारिता की जैसे एक नई परिभाषा रची. इस देश में जिसे भी लगता है कि उसकी आवाज कोई नहीं सुनता है, उसे रवीश कुमार से उम्मीद होती है. टीवी पत्रकारिता के इस शोर-शराबे भरे दौर में उन्होंने सरोकार वाली पत्रकारिता का परचम लहराए रखा है. सत्ता के खिलाफ बेखौफ पत्रकारिता करते रहे. आज उनकी पत्रकारिता को एक और बड़ी मान्यता मिली है.

रवीश कुमार के अलावा वर्ष 2019 रैमॉन मैगसेसे अवार्ड के चार अन्य विजेताओं में म्यांमार से को स्वे विन, थाईलैंड से अंगखाना नीलापजीत, फिलीपींस से रेमुंडो पुजांते कैयाब और दक्षिण कोरिया से किम जोंग-की हैं.

यह अवॉर्ड मिलने के बाद चारों ओर से रवीश कुमार को बधाइयां मिल रही हैं. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री व पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती और ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस के सांसद डेरेक ओब्रायन के बाद अब रवीश कुमार को बधाई देने वालों में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी का और राहुल गाँधी का नाम भी जुड़ गया है.

फेसबुक और ट्विटर पर अनेक लोग जो उनको जानते और चाहते हैं, बधाइयाँ दी हैं. कुछ लोगों ने अवार्ड की ही आलोचना चालू कर दी है. यह सब अभिव्यक्ति की आजादी है. यही तो वे भी चाहते हैं. पत्रकार को सत्यनिष्ट और सजग होना चाहिए. सत्ता की चाटुकारिता नहीं बल्कि समय समय पर आलोचना भी की जानी चाहिए. आज के समय में अधिकांश मीडिया हाउस को सत्ता द्वारा अपहरण कर लिया गया है, वहां ऐसे निडर और निष्पक्ष पत्रकार की सख्त जरूरत है. पत्रकार वही है, जो जनता की आवाज बन सके, सत्य को सामने रख सके.

सत्ता की आलोचना के चलते रवीश कुमार को पिछले दिनों सोशल मीडिया पर बड़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ा है. उन्हें सरेआम गालियाँ और धमकियाँ दी जाती रही है. उनके जैसे कई अन्य पत्रकारों को, जिन्होंने सत्ता के खिलाफ आवाज उठाई उन्हें अपनी नौकरी भी गंवानी पडी है. पर उन्हें NDTV ने अपने साथ बनाये रक्खा इसलिए रवीश कुमार ने पूरी टीम के प्रति कृतज्ञता व्यक्त की है. इस सम्मान से वे अभिभूत तो हैं ही, किन्तु उनको वहां तक पहुँचाने में पूरी टीम का हाथ है. अकेला आदमी सब कुछ नहीं कर सकता, उसे टीम ही आगे बढ़ाती है.

अपने प्राइम टाइम के कार्यक्रम में रवीश कुमार ने एक बार नौकरी पर लगातार श्रृंखला चलाई जिससे काफी लोगों को रोजागार और नौकरियाँ मिली. ऐसे बहुत सारे नौजवान रवीश के प्रति कृतज्ञता जाहिर करते हैं. विश्वविद्यालयों, शिक्षण संस्थाओं पर भी कई कार्यक्रम किये हैं. दूर दराज के गांवों और शहरों में भी विपरीत परिस्थितयों में रिपोर्टिंग की है. कई बार सचमुच का रोड शो उन्होंने भी क्या है. निचले तबकों के दर्द को खुद महसूस कर उसकी समस्या को उजागर किया है. इससे कई सरकारों, और प्रशासनिक अधिकारियों की आँखें भी खुली है.

कई बार वे क्लिष्ट विषयों को भी आम आदमी के सामने लाते रहे. सामाजिक, साहित्यिक, आर्थिक और पर्यावरण से सम्बंधित विषयों पर भी कार्यक्रम करते रहे हैं. सबसे बड़ी बात यह है कि प्राइम टाइम करने के पहले वे खुद उसपर अध्ययन और शोध कर चुके होते हैं, तब ही वे कार्यक्रम पेश करते हैं. उन्हें जब धमकियाँ दी जा रही थी तो उन्होंने प्रधान मंत्री के नाम से भी खुला पत्र लिखा था. वे लिखते हैं मैं इस पत्र को आपके पास डाक से भेज रहा हूँ और उम्मीद करता हूँ कि आप इसपर अवश्य ध्यान देंगे.

काफी लोगों ने उन्हें ‘रबिश’ कहा, जातिवादी, वाममार्गी कहा तब भी वे अपनी आवाज को उसी बुलंदी के साथ उठाते रहे. आज भी वे नए पत्रकारों को खूब पढ़ने और खूब मिहनत करने की सलाह देते हैं. पढ़ना और मिहनत करना हर हाल में जरूरी है. सरल रास्तों से चलकर कोई भी उच्च मुकाम तक पहुँच सकता है, पर कठिन रास्तों को लांघते हुए ऊंचाई पर जो पहुंचता है, उसका नाम सभी लेते हैं. हमारी भारत भूमि तमाम ऐसे लोगों से परिपूरित है. समय आने पर वे भी अवश्य खिलते हैं, चमकते हैं, राह दिखाते हैं.

एक बार फिर से बेजुबानों की आवाज उठानेवाले निर्भीक और निडर पत्रकार रवीश कुमार को तहेदिल से बधाई और भविष्य के लिए शुभकामनाएं. उम्मीद है वे अपने उद्देश्य में आगे भी ऐसे ही लगे रहेंगे! जयहिंद! जय भारत! वन्दे मातरम!

— जवाहर लाल सिंह, जमशेदपुर