मैत्री के दोहे

मित्र वही जो नेह दे,सदा निभाये साथ
हर मुश्किल में थाम ले,कभी न छोडे़ हाथ ।।

पथ दिखलाये सत्य का,आने ना दे आंच ।
रहता खुली किताब सा,लो कितना भी बांच ।।

मित्र है सूरज-चांद सा,बिखराता आलोक ।
हर पल रहकर साथ जो,जगमग करता लोक ।।

कभी न करने दे ग़लत,राहें ले जो रोक ।
वही मित्र मानो खरा,जो देता है टोक ।।

बुरे काम से दूर रख,जो देता गुणधर्म ।
मित्र नाम ईमान का,नैतिकता का मर्म ।।

मित्र न रक्खे छल-कपट,ना ही कोई डाह ।
तत्पर करने को ‘शरद’,वाह-वाह बस वाह ।।

खुशबू का झोंका बने,मीठी झिरिया नीर।
मित्र रहे यदि संग तो,हो सकती ना पीर ।।

मित्र मिले सौभाग्य से,बिखराता जो हर्ष ।
मिले मित्र का साथ तो,जीतोगे संघर्ष ।।

भेदभाव को भूल जो,थामे रखता हाथ ।
कृष्ण-सुदामा सा ‘शरद’,बालसखा का साथ ।।

मित्र नहीं तो ज़िन्दगी,देने लगती दर्द ।
मित्र रोज़ ही झाड़ दे,भूलों की सब गर्द ।।

— प्रो. शरद नारायण खरे

परिचय - प्रो. शरद नारायण खरे

प्राध्यापक व अध्यक्ष इतिहास विभाग शासकीय जे.एम.सी. महिला महाविद्यालय मंडला (म.प्र.)-481661 (मो. 9435484382 / 7049456500) ई-मेल-khare.sharadnarayan@gmail.com