रोड शो-3: बात अद्भुत खबरों की

”रोड शो का अर्थ है डंके की चोट पर जगना-जगाना. क्या हम-आप तैयार जगने-जगाने के लिए?”

”जी, बिलकुल. इसीलिए तो हमें यह शानदार मंच मिला है.”

तो आइए देखते हैं इस बार इस रोड में क्या हो रहा है? ये अद्भुत खबरें केवल अद्भुत ही नहीं हैं, बल्कि ज्ञानवर्द्धन के लिए भी हैं और बहुत कुछ सोचने-समझने के लिए भी.

मुंबई: एक ही कॉलेज में पढ़ते हैं बाप-बेटी, बाप जूनियर-बेटी सीनियर
मुंबई के एक लॉ कॉलेज में पढ़ने वाली एक लड़की अपने ही पिता की सीनियर है. दरअसल, उसके पापा ने भी इसी कॉलेज में ऐडमिशन लिया है और दोनों लॉ की पढ़ाई कर रहे हैं.

कश्मीर: पटरी पर लौट रही जिंदगी, घरों से बाहर निकले लोग
जम्मू-कश्मीर में फिलहाल स्थिति नियंत्रण में है. चप्पे-चप्पे पर सेना और पुलिस के जवान जरूर तैनात हैं, लेकिन जरूरी कामों के लिए लोगों को घरों से बाहर निकलने का मौका दिया जा रहा है. गुरुवार सुबह जम्मू में लोग सब्जी मंडी से सब्जी खरीदते दिखे. उधर, अजीत डोभाल सरकार की तरफ से वहां मोर्चा संभाले हुए हैं.

ईद-उल-अजहा: 211 किलो के बकरे की कीमत 8 लाख रुपये

बकरीद आ ही गई है और बाजारों में कुर्बानी के लिए बकरों की बिक्री तेज हो गई है. उत्तर प्रदेश के हमीरपुर के निवासी अबरार खान ने 200 किलों से ज्यादा के बकरे की नीलामी की कीमत 8 लाख रखी है. खान का कहना है कि इस सेहतमंद बकरे को यहां तक पहुंचाने के लिए उन्होंने बहुत मेहनत की है और साथ ही बकरे को ड्राइ फ्रूट से भरी डायट दी जाती रही है. खान के मुताबिक उन्हें अब तक कुर्बानी के लिए बकरे को मांग रहे लोगों की तरफ से 6 लाख तक की ऑफर मिली है.

न्यू जीलैंड में मिले ‘हरक्यूलिन’ तोते के प्रमाण, 1.9 करोड़ साल पहले था अस्तित्व

न्यू जीलैंड में विशालकाय तोते के प्रमाण पाए गए हैं. करीब 1.9 करोड़ साल पहले अस्तित्व में रहे इस तोते का आकार औसत मनुष्य की ऊंचाई का लगभग आधा यानी एक मीटर के आसपास और वजन औसतन 7 किलोग्राम हुआ करता था.

 

बुजुर्गों को गिरने से बचाएगी यह आर्टिफिशल पूंछ
जापान में बुजुर्गों की बढ़ती जनसंख्या के कारण ऐसे आविष्कार वहां काफी लोकप्रिय हैं. जापान की सरकार इस समस्या को ‘राष्ट्रीय आपदा’ घोषित कर चुकी है.

बढ़ती उम्र के साथ हमारा इम्यून सिस्टम तो कमजोर हो ही जाता है, मांसपेशियां भी कमजोर होने लगती है. पहले जैसी स्फूर्ति नहीं रहती. लेकिन अगर डाइट में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव कर लिए जाएं तो इससे मदद मिल सकती है. खासकर 50 वर्ष की आयु के बाद तो डायट में बदलाव जरूर होना चाहिए.

 

स्टेम सेल कॉम्बो से Heart Attack से हुए नुकसान की भरपाई में मिलेगी मदद

डैमेज टीशू वाले क्षेत्र को हार्ट मसल्स सेल्स और दिल की दीवार की बाहरी परत से ली गई सहायक कोशिकाओं के संयोजन के साथ प्रत्यारोपित कर, क्षतिग्रस्त दिल की मरम्मत में वे समर्थ हो सकते हैं.

 

कैल्शियम और Vitamin D सप्लिमेंट्स एक साथ लेने से स्ट्रोक का खतरा
हड्डियों को स्वस्थ और मजबूत बनाए रखने के लिए कैल्शियम और विटमिन डी दोनों की जरूरत होती है. लेकिन अगर इन दोनों सप्लिमेंट्स को एक साथ लिया जाए तो हार्ट स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है. यह बात एक नई स्टडी में सामने आयी है.

 

 

औषधीय गुणों सें भरपूर मुलेठी

आमतौर पर मुलेठी का इस्तेमाल पान में किया जाता है, लेकिन मुलेठी सर्दी-जुकाम जैसी छोटी बीमारियों के साथ-साथ आपकी कई अन्य बड़ी बीमारियों में भी वरदान साबित हो सकती है. औषधीय गुणों सें भरपूर मुलेठी कैल्शियम, ग्लिसराइजिकऐसिड, ऐंटीऑक्सिडेंट, ऐंटीबायॉटिक, प्रोटीन और वसा के गुणों से भरपूर होती है.

 

प्रणब मुखर्जी, नानाजी देशमुख और भूपेन हजारिका को दिया गया भारत रत्न पुरस्कार
पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को गुरुवार को राष्ट्रपति भवन में आयोजित समारोह में देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया. उनके अलावा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नेता और समाजसेवी रहे नानाजी देशमुख और असम के महान गायक भूपेन हजारिका को मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया गया.

 

सेंसेक्स टुडेः सरचार्ज और एलटीसीजी हटाने की खबर से झूमा बाजार, 637 अंक उछलकर बंद हुआ संसेक्स
एफपीआई से सरचार्ज हटाने तथा एलटीसीजी को वापस लेने की खबरों से गुरुवार को शेयर बाजार झूम उठा। सेंसेक्स तथा निफ्टी दोनों उछलकर बंद हुआ.

 

 

यूपी: ‘वृक्ष पुरुष’ ने 12 साल में लगाए 40 हजार पौधे, बसा दिया जंगल
पत्नी का निधन हो गया, बेटा भी नहीं रहा तो भैयाराम यादव ने पौधों को ही अपनी संतान मान लिया. गांव से कुछ दूरी पर एक झोपड़ी बनाई और जंगल बसाने में रम गए. 12 साल में वृक्ष पुरुष के नाम से पहचाने जाने वाले भैयाराम 40 हजार पौधों को पाल-पोसकर बड़ा कर चुके हैं.

 

लौकी की बर्फी और लौकी का चीला रेसिपी
आपको लौकी पसंद नहीं है, तो कोई चिंता नहीं, लौकी की बर्फी और चीला बनाकर खाइए और हमें अपना अनुभव बताइए-
1 कप घिसी हुई लौकी
125 ग्राम खोया
1 चम्मच घी
1/4 कप शुगर
1/2 लीटर फुल क्रीम दूध
1चम्मच पिसी हुई इलायची
1 चम्मच नमक

Step 1
एक बर्तन में दूध लें और उसे उबालें. उबलने पर उसमें घिसी हुई लौकी डाल दें. इसे 10-15 मिनट तक छोड़ दें.

Step 2
इस मिक्सचर में चीनी डाल दें और चलाते रहें. जब तक लौकी दूध सोख न ले इसे और यह मिक्सचर गाढ़ा न हो जाए इसे पकाते रहें. इसके बाद इसमें खोया, घी और पिसी हुई इलायची डाल दें। इसे अच्छे से मिलाएं.

Step 3
एक बड़ी प्लेट लें. उसमें थोड़ा सा घी लगा दें. जह मिक्सचर से पूरा दूध सूख जाए तो उसे प्लेट में निकाल लें. उसे अच्छी तरह फैलाएं और पिस्ता से सजाएं. इसे ठंडा होने दें.

Step 4
जब यह रूम टेंपरेचर पर थोड़ा ठंडा हो जाए तो इसे फ्रिज में रखकर जमने दें. बर्फी तैयार है. इसे अपनी इच्छानुसार अलग-अलग साइज में काट लें.

लौकी का चीला
लौकी का चीला एक सात्विक और स्वादिष्ट रेसिपी है. इसका स्वाद लौकी के लिए आपका नजरिया बदल देगा. खास बात यह है कि पसंदीदा चटनी के साथ बच्चे भी इसे पसंद करेंगे.

दो घिसी हुई लौकी
2 चम्मच सूजी
1/2 कप बेसन
नमक
रिफाइन्ड ऑइल
पानी
4 कटी हुई हरी मिर्च
2 चम्मच आजवाइन
1/2 चम्मच गरम मसाला
1/2 चम्मच लाल मिर्ट पाउडर
2 चम्मच कटी हुई धनिया

Step 1
घिसी हुई लौकी, हरी मिर्च, सूजी, नमक, गरम मसाला, लाल मिर्च, आजवाइन, धनिया पत्ती और बेसन को मिला लें और पानी डालकर इसका बैटर तैयार करें. बैटर न ज्यादा पतला हो और न ज्यादा गाढ़ा.

Step 2
एक नॉन स्टिक पैन में तेल गर्म करें. इसपर एक चम्मच बैटर डालकर फैला दें. इसके ब्राउन होने तक इसे सेकें. इसके बाद चीला के ऊपर थोड़ा सा तेल छिड़कें.

Step 3
इसे धीमे से पलटें और दूसरी तरफ भी ऐसे ही सेकें. इसी तरह सारे बैटर का चीला बना लें.

Step 4
चटनी के साथ इसे गर्मागर्म सर्व करें.

 

आज के लिए बस इतना ही. सेष फिर कभी.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।