भारत में पाक मिला देगें………

दहसत गर्दों की खैर नही, नापाक इरादे मिटा देगें
अमन कहीं जो छीनेंगें, भारत में पाक मिला देगें

कदम वीर सपूतों के, अब पीछे हटने वाले नही
छुपकर वार जो करते हैं, शेर वो हमने पाले नही
घर में घुस कर मारेगें, लाहौर हो या कराची हो
तुम कीचड जहां उछालोंगे, हम कमल वहीं खिला देगें
भारत में पाक मिला देगें……………………

भंवर में अब तक फंसी जो थी, वो कस्ती बाहर आयी है
असुरों की सियासत खतम हुई, अब राम ने लंका पाई है
हीरे मोती अब जड़ना है, इसे और अभी चमकाना है
डाका इस पर जो डालेगा, उसे लम्बी नींद सुला देगें
भारत में पाक मिला देगें……………………

लम्बी निशा में स्वर्गलोक था, विहान नया हम लाये हैं
अब तक त्रास बहुत झेले हैं, ठोकर भी खूब खाये हैं
इक इक वीर चट्टान बना है, उनसे मत टकराना तुम
हद को पार करोगें तो, इस्लामाबाद हिला देगें
भारत में पाक मिला देगें……………………

केसर का खेत हमारा था, हल गैर वहां पे चलाते थे
लहलहाती फसल हमारी थी, हमीं को वो डराते थे
अब (राज) वहां पर मेरा है, तानाशाही अब चली गई
आंखे अब भी खुली नही तो, हर रस्ता तुम्हे भुला देंगे
भारत में पाक मिला देगें……………………
राज कुमार तिवारी (राज)

परिचय - राज कुमार तिवारी (राज)

संवाददाता बाराबंकी उत्तर प्रदेश मो० 9984172782 इनका जन्म बाराबंकी जिले के जयचन्द्रपुर गांव के एक किसान के घर 1988 में हुआ था। इन्होने शिक्षा शास्त्र से परास्नाक की उपाधि प्राप्त की। इनको बचपन से ही लिखने का बड़ा ही शौख था, 15 वर्ष की आयु से ही इन्होने लिखना शुरू कर दिया था। 1998 से 2014 तक दूर दर्शन केन्द्र की मासिक पत्रिका से व लखनऊ से प्रकाशित होनेे वाली अन्य प्रत्रिका व समाचार पत्रों में भी स्थान प्राप्त किया। इनका कलम चलाने का सिलसिला अभी जारी है।