मैं और तुम

अप्रैल का महीना और गर्मी का ये आलम ,शीला का गर्मी के मारे बुरा हाल था | “सुनो जी ! मुझसे अब कोई काम नहीं होगा |रसोई की तरफ जाने का मन ही नहीं होता है “|
अभी तो ग्रीष्म का आगमन ही हुआ है प्रिये जून तो जला ही डालेगा रमेश हँसता है | “सुनो ! अब बाहर के कमरे में भी ए सी लगवा दो |एक ही कमरे में भी तो बैठे बैठे जी ऊब जाता है “तभी प्रिया भी बोल पड़ती है पापा मेरे कमरे में भी|
“क्या ? ए सी से इस समस्या का समाधान हो जायेगा ज़िंदगी कोई चार दीवारी में सिमटी तो है नही घर से बाहर का सफ़र कैसे तय करोगे ? ये समस्या तो प्रकृति के दोहन से मानव नेस्वयं उत्पन्न की है |”

” देखो ना शहरों के विकास मेट्रो के आगमन ने हज़ारों की संख्या में बडे पेंड काट गिराये |अन्यान उपकरणो से निकलने वाली जहरीली गैसो ने वायु मंडल के सुरक्षा कवच को कई जगह से क्षतिग्रस्त कर दिया |जो इस तपन का मुख्य कारण है और तापमान दिनो दिन बढ रहा है |” सच कह रहें है आप शीला ने रमेश को देखते हुए कहा |

दोनो अपने बोन्साई गार्डेन में आकर बैठते हैं प्रिया चाय लाती है | चाय पीकर शीला अपने पौधों में पानी डालने लगती है |
शीला आम के पेड़ से उलझे अपने आंचल को छुड़ाती है तो उसे लगता है की जैसे उसने कुछ कहा वो सभी पौधो को बारी बारी से छूती है| उसे लगता है उससे आम ,पीपल ,बरगद,नीम सभी एक स्वर में कह रहे हैं मुझे भी स्व्छन्द बढने दो मत बाँधो तारों से |जब हम ऊँचाइयो से लहलहायेगे तो स्वच्छ वायु बहेगी वायुमंडल का जहर मुझमे अवसोशित होगा ओजोन सुरक्षित होगी | तपन भी स्वयं कम होजागी |

“तुम से हम और हम से तुम्हारा अस्तित्व है |दोहन नहीं संरक्षण करो मेरा |आओ थाम लो मुझे और मैं वायुमन्डल के विनाश को थाम लूँगा ” |
शीला अवाक थी उसके कानों में फिर कुछ ध्वनित हो रहा था……

मंजूषा श्रीवास्तव ‘मृदुल’

परिचय - मंजूषा श्रीवास्तव

शिक्षा : एम. ए (हिन्दी) बी .एड पति : श्री लवलेश कुमार श्रीवास्तव साहित्यिक उपलब्धि : उड़ान (साझा संग्रह), संदल सुगंध (साझा काव्य संग्रह ), गज़ल गंगा (साझा संग्रह ) रेवान्त (त्रैमासिक पत्रिका) नवभारत टाइम्स , स्वतंत्र भारत , नवजीवन इत्यादि समाचार पत्रों में रचनाओं प्रकाशित पता : 12/75 इंदिरा नगर , लखनऊ (यू. पी ) पिन कोड - 226016