सर्पदंश

”ये मुझे क्या होता जा रहा है? छः साल हो गए, अन्न का एक दाना तक नहीं चखा, पाइप से ही लिक्विड डाइट ले रही हूं, काम पर भी आ रही हूं, फिर भी दिन-ब-दिन मोटी होती जा रही हूं.” फुड पाइप कैंसर से पीड़ित हरप्रीत को लगा वह खुद से ही बात कर रही थी.

उसका अतीत ही मानो उसे कचोट रहा था. प्रिंसिपल की कुर्सी पर बैठे-बैठे उसे न जाने क्यों लग रहा था, कि उसकी कुर्सी सांपों से घिरी हुई है. डसते हुए सर्पों से वह भयभीत होकर चिल्लाना चाहती थी- ”सांप”, पर स्टॉफ क्या कहेगा, इस संकोच के कारण उसकी आवाज ने निकलने से इनकार कर दिया, लेकिन सर्पदंश को बोलने से नहीं रोक पाई.

”मैडम, आप तो खुद सर्पदंश हैं, सांप आपको क्या डसेगा?”

”कौन हो तुम?”

”लो मुझे नहीं पहचाना! मैं मनीषा हूं, जिसकी महीने में दो दिन की सैलरी आप खा जाती थीं और जाने कैसे इंस्पैक्शन होता था, आप साफ बच निकलती थीं.” यह पहला सर्पदंश था.

”मुझे तो पहचानो, मैं नताशा हूं. वही नताशा, जिसको रिटायरमेंट के बाद भी तुमने डसना नहीं छोड़ा. रिएम्प्लॉयटमेंट के बाद रोज 5 पीरियड मैं सिर खपाती थी और 2 पीरियड के पैसे आपकी पर्स में जाते थे.” यह अगला सर्पदंश था.

”मैं हूं तनु. मुझे तो आप भूली नहीं होंगी. मेरे प्रमोशन की लिस्ट आपने दबा दी थी. समय रहते मेरे अप्लाई न करने के कारण मेरे बाद आपकी भतीजी का नंबर था, आपने उसका प्रमोशन होने दिया था. मैं आज तक प्रमोशन से वंचित रहकर दंश को सहने को विवश हूं.” एक और सर्पदंश था.

”मैं आशा, वही जिसकी पुरानी सर्विस की काउंटिंग की फाइल आपने आगे नहीं चलाई और मैं 35 साल से उस लड़ाई को लड़ने में मर-खप रही हूं.” सर्पदंश चुकने को ही नहीं आ रहे थे.

”बस करो, और कितने सर्पदंश मुझे डसेंगे?” वह बोलना चाहती थी, पर बोलती कैसे? सर्पदंश ने निःशब्द अपना काम कर दिया था.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।