एक और सूरज

सदियों पहले टकराए ग्रह
कहते हैं उससे धरती बनी !
“आग का गोला” थी तब यह,
फिर धीरे-धीरे शाँत हुई !!

जल, वायु और हरियाली से
फिर इसमें जीवन उभरा !
विकास हुआ, जीवन संवरा,
विज्ञान से जीवन आगे बढ़ा !!

फिर दौर विकास का ऐसा चला,
प्रकृति पर शुरु हुआ अत्याचार !
बाढ़ कहीं तो सूखा कहीं,
धरती पर मच गया हाहाकार !!

इस विकास की अंधी आंधी में,
हम जीवन जीना भूल गए !
नई मंजिलें पाने के लिए,
प्रकृति को ही निगल गए !!

ऐसा ही रहा तो जल्दी ही धरती,
आग का गोला बन जाएगी !
जो सूरज का हिस्सा रही थी कभी,
खुद ही सूरज बन जाएगी !!

अंजु गुप्ता

परिचय - अंजु गुप्ता

Am Self Employed Soft Skills Trainer with more than 23 years of rich experience in Education field. Hindi is my passion & English is my profession. Qualification: B.Com, PGDMM, MBA, MA (English), B.Ed