कुण्डली/छंद

कुंडलिया

ममता के पांडाल में, माता जी की मूर्ति।
नव दिन के नवरात में,सकल कामना पूर्ति।
सकल कामना पूर्ति, करें आकर जगदंबा।
भक्तों के परिवार में, एक मातु अवलंबा।
कह गौतम कविराय, न देखी ऐसी समता।
होते पूत कपूत, मगर आँचल में ममता।।

— महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

परिचय - महातम मिश्र

शीर्षक- महातम मिश्रा के मन की आवाज जन्म तारीख- नौ दिसंबर उन्नीस सौ अट्ठावन जन्म भूमी- ग्राम- भरसी, गोरखपुर, उ.प्र. हाल- अहमदाबाद में भारत सरकार में सेवारत हूँ

Leave a Reply