क्रंदन

कई दिनों से रोज सुरभि को सपने में एक छायाचित्र दिखाई दे रहा था, जिसमें माइक के पीछे से निकलते हुए दो हाथ मानो बचाने के लिए गुहार करते लग रहे थे. कौन हो सकता है यह, वह सोचती रहती थी.

”कहीं यह प्रोमिला तो नहीं है, जो ऑनर किलिंग के डर से कुएं में कूद गई थी!” कभी वह सोचती.

”यह खुशी तो नहीं है, जिसका चेहरा एसिड अटैक में बदरंग हो जाने के कारण उसकी खुशी ग़म में बदल गई थी!” कभी उसके मन में विचार उठता था!

”हो सकता है यह सुरेखा की रुलाई हो, अपहरण और बलात्कार के बाद जिसकी जीवन-रेखा ही मिटा दी गई थी. वह भी तो ऐसे ही जोर-जोर से चिल्लाई होगी!”

”उफ्फ, रोज यही सपना!” सुरभि अपने आप से बात कर रही थी, ”क्या यही देखना बाकी रह गया था.”

”शुक्र है, आप लोगों को कुछ सुबुद्धि तो आई! इस बार मुझ में नहीं हुआ कोई मूर्ति विसर्जन!” प्रसन्नता से सराबोर एक आवाज मानो उससे अपनी खुशी साझा कर रही थी.

”दुर्गा पूजा: दिल्ली में पहली बार यमुना में नहीं हुआ कोई मूर्ति विसर्जन.” पढ़ते ही बहुत दिनों से चिंतित-आशंकित सुरभि को मानो सपने में देखे गए चित्र का रहस्य समझ में आ गया.

यह यमुना मैय्या का क्रंदन था, जो दुर्गा पूजा की पावनता से उत्साहित होते हुए भी मूर्ति विसर्जन के कारण अपने बढ़ते हुए प्रदूषण की आशंका से आशंकित थी.”

सुरभि का चेहरा खिल उठा. अब दिवाली को ग्रीन पटाखों से मुक्ति दिलाने हेतु वह सबको संगठित करने के लिए चल पड़ी.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।