Monthly Archives: November 2019


  • डॉ. नीलम खरे को सम्मान

    डॉ. नीलम खरे को सम्मान

    मंडला-पं.ओंकार प्रसाद तिवारी स्मृति समारोह में प्रांतीय स्तर के सृजनशिल्पियों को विविध सम्मानों से  सम्मानित किया गया।इनमें स्वनामधन्य कवयित्री/लेखिका व सृजनशिल्पी डॉ. नीलम खरे को भी उनकी सतत् साहित्य साधना के लिए “ओंकार सम्मान” देकर भव्य...

  • यादें!

    यादें!

    कभी हँसाती कभी रूलाती यादें! कभी सताती खट्टे-मीठे दिन याद दिलाती यादें! गुजरे दिन दु:ख या मौज में पल-पल की फिल्म दिखाती यादें! खुशी हो या हो गम आँसू बनकर छलक जाती यादें! ये नटखट बड़ी...

  • गुनगुनी धूप( कविता)

    गुनगुनी धूप( कविता)

    गुुनगुनी धूप ************ सुनहरी धूप अंतस्तल में समाई बीते दिनों की यादें संग लाई ।   आँगन में कभी अपनों के संग मस्ती करते रहते थे हम संग संग।   कहाँ गई वो धींगामस्ती  अम्मा की...

  • लघुकथा

    लघुकथा

    शुभस्य शीघ्रम् ************* “क्या सोच रही हो; मनुज के घर वालों से मिला जाये या नहीं ? सच में ! हमें शर्म आती है कि हमारी ही संतान विद्रोही बन कर हमें कड़वे घूँट पीने को...




  • बेटी

    बेटी

    एक बेटी ने उस वक्त अपने बाप को नया जन्म दे दिया जब उसने अपने प्रेमी को ये कहकर ठुकरा दिया कि तुम मेरे पापा से बढ़कर नहीं हो गर मेरे पापा ने कहा है की...

  • रजा तेरी

    रजा तेरी

    मुझे तो इश्क करना है तुझसे तू चाहे तो दगा दे जाए। सच बोलना फितरत है मेरी फिर चाहे जां मेरी चली जाए। दिल की दीवानी हूं अपने बगावत नही करनी इसकी फिर चाहे तू जुदा...