लघुकथा

जानवर कौन ?

वह एक पशु चिकित्सक थी ! पशुओं के प्रति प्रेम और करुणा ने उसे पशु चिकित्सक का कैरियर अपनाने के लिए प्रेरित किया था । वह अक्सर राह चलते हुए किसी भी घायल जानवर की मरहम पट्टी और दवाई कर देती थी । इससे मिलनेवाले आत्मिक खुशी की चाह में उसे अपने आर्थिक नुकसान की […]

बाल कविता

छोटी चिड़िया

एक नन्ही सी छोटी चिड़िया, चिड़िया के हुए चार बच्चे। चारो बच्चे बड़े अच्छे अच्छे, चिड़िया को दाने की तलाश। बच्चों को खाने की आस, बहेलिया को चिड़िया की तलाश। बहेलिया बैठा जाल बिछाये, चिड़िया को कुछ समझ ना आये। भूखे बच्चों को खाना कैसे खिलाये, बच्चे उड़कर जा बैठे जाल में। चिड़िया बेचारी रोये […]

गीतिका/ग़ज़ल

ग़ज़ल

मेरी हर ग़ज़ल कसीदा तुम्हारी शान में है तुम सा न दूसरा कोई पूरे इस जहान में है हर महफिल मुझे लगे है तेरी ही महफिल रहूँ कहीं भी मैं बस तू ही मेरे ध्यान में है कुछ ऐसा लगता है नकाब में तेरा चेहरा जैसे तलवार दोधारी कोई म्यान में है मिलन से ज्यादा […]

लघुकथा

आत्महत्या

सुबह-सुबह सैर करते हुए शिवानी को देख एक कौवे ने कांव-कांव करनी शुरु कर दी. ”क्यों मेरी कांव-कांव कड़वी लगी?” शिवानी को गुस्से से रुकते देख कौवे ने कहा, ”वैसे भी सच बात तो कड़वी ही लगती है न!” ”तुम तो कांव-कांव कर रहे हो, कौन-सी सच्ची बात बोल रहे हो?” शिवानी कौवे की बात […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

संसार के राजा ईश्वर का कहीं कोई प्रतिद्वंदी नहीं

ओ३म् हम इस ब्रह्माण्ड के पृथिवी नामी ग्रह पर रहते हैं। इस ब्रह्माण्ड को सच्चिदानन्दस्वरूप, सर्वव्यापक, सर्वशक्तिमान, सर्वज्ञ, अनादि, नित्य तथा सृष्टिकर्ता परमेश्वर ने बनाया है और वही इसका संचालन वा पालन कर रहा है। ईश्वर के समान व उससे बड़ी उस जैसी कोई सत्ता नहीं है। उसका अपना स्वभाव है। वह दयालु, न्यायकारी, जीवों […]

कहानी

मृगतृष्णा

मृगतृष्णा एक छोटी मासूम सी लड़की, आँखों में कई सपने सँजोए हुए, अपनी ज़िंदगी की बढ़ती रफ़्तार को क़ाबू में किये हुए, एक मुक़ाम तक पहुँचने की इच्छा रखती थी। वह उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गाँव में रहती थी। उस समय पर गाँव में लड़कियों को ज़्यादा पढ़ाया-लिखाया नहीं जाता था। बस यह […]

लघुकथा

तेवर

“दूधवाले भैयाजी, क्या आप हमारे यहाँ भी प्रतिदिन एक लीटर दूध दे सकते हैं ?” पड़ोसी के घर में प्रतिदिन दूध देने वाले से हमने पूछा। “दे सकता हूँ साहब, पर आज से नहीं, कल से।” दूधवाले ने कहा। “ठीक है, तो तय रहा कल से आप एक किलोग्राम की पैकेट हमारे घर छोड़ेंगे।” हमने कहा। “नहीं साहब, मैं प्लास्टिक की थैली […]

लघुकथा

रक्तदान

“सर, प्रमोद जी आए हैं रक्तदान करने।” कंपाउंडर ने कहा। “कौन प्रमोद जी ?” डॉक्टर साहब ने पूछा। “सर, ये हर साल यहाँ दो बार रक्तदान करने आते हैं।” कंपाउंडर ने बताया। “ठीक है। भेजो उन्हें।” डॉक्टर ने कहा। “नमस्ते सर। मैं प्रमोद हूँ। इसी गाँव में रहता हूँ। स्वस्थ आदमी हूँ। लगातार रक्तदान करता रहता हूँ। आज भी […]

लघुकथा

रेस का घोड़ा

“हेलो सर!” “हलो जी …..।” “क्या मेरी बात डॉ. शर्मा जी से हो रही है।” “हाँ जी, बोल रहा हूँ। पर आप कौन…..” “काँग्राचुलेशन्स सर। मैं साहित्यिक वेबसाइट ‘ढिंचाक’ से मिस सुधा बोल रही हूँ। सर, आप इस हफ्ते ‘आथर ऑफ द वीक’ के लिए नॉमिनेट किए गए हैं।” “अच्छा….., ये क्या होता है ?” “सर, हमारी साहित्यिक वेबसाइट की ओर से हर सप्ताह […]

राजनीति

महाराष्ट्र की राजनीति में नये सूरज का उदय : हिंदुत्व के साथ महा विश्वासघात

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनावों के परिणामों के बाद मची जबर्दस्त उथल-पुथल अब शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे जी के मुख्यमंत्री बनने के बाद ही समाप्त हो चुकी है तथा इस बीच सरकार गठन को लेकर जिस प्रकार की पैतरेंबाजी राजनैतिक दलों की ओर से दिखायी गयी अब उसका असर भी काफी समय के लिए शांत हो […]