कविता

ख्वाब

एक ख्वाब जो कभी देखा था,
उस अल्हड़ उम्र में जब सभी,
एक ख्वाब से दूसरे ख्वाब में,
खेलते दौड़ते रहते थे अक्कसर,
उसी ख्वाब को देख लिया था,
इन आँखों ने अपने ख्वाबों में,
आज वही ख्वाब निकल गया,
मंजिल अपनी पाने के लिए,
जब ख्वाब हो साकार होगा,
सामने ऐसे जैसे मिला “कोहिनूर”
राह ख्वाब की आसान न थी,
बहुत सी मुश्किल आई हरदम,
साथ मेरे थे बहुत मेरे अपने,
जिन्होंने हर कदम पर साथ दिया,
हौंसला न टूटने दिया कभी भी,
सभी के साथ से ख्वाब होगा पूरा,
वो दिन दूर नहीं जब साथ होगा ,
मेरा ” ख्वाब” बन हकीकत।।

सारिका औदिच्य

परिचय - डॉ सारिका रावल औदिच्य

पिता का नाम ---- विनोद कुमार रावल जन्म स्थान --- उदयपुर राजस्थान शिक्षा----- 1 M. A. समाजशास्त्र 2 मास्टर डिप्लोमा कोर्स आर्किटेक्चर और इंटेरीर डिजाइन। 3 डिप्लोमा वास्तु शास्त्र 4 वाचस्पति वास्तु शास्त्र में चल रही है। 5 लेखन मेरा शोकियाँ है कभी लिखती हूँ कभी नहीं । बहुत सी पत्रिका, पेपर , किताब में कहानी कविता को जगह मिल गई है ।

Leave a Reply