दोहे – शहीदों के प्रति

अमर शहीदों के लिये,देता हूं संदेश ।
तुम हो तो हम हैं ‘शरद’,तुम हो तो यह देश।।

पुलवामा के वीर तुम,रहो सदा आबाद।
करे वतन सजदा सदा, तुम हो ज़िन्दाबाद।।

क़ुरबानी बेकार ना,जायेगी यह सांच।
शौर्य तुम्हारा है अमर,आयेगी नाआंच।।

तुम सूरज,तुम चांद हो,तुम ठंडक, तुम ताप।
तेज तुम्हारे संग जो,कौन सकेगा माप।।

वतनपरस्ती का भरा,था तुम में आवेग।
तुमने अपनी जान का,दिया वतन को नेग।।

आतंकी कायर सभी,कायर है नापाक़।
मिटना उसका तय हुआ, लिया सभी ने आंक।।

अति श्रध्दा के पुष्प तुम,कर लो प्रिय स्वीकार।
अब यह तय प्रतिशोध को,देंगे हम आकार ।।

हिन्दुस्तानी वीर अब,लिक्खेंगे इतिहास।
हर दिल में जिससे पले,’शरद’ नया विश्वास।।

बार -बार अभिवंदना,नमन् करूं सौ बार।
हर शहीद की बोलिये,मिल सब जय-जयकार।।

— प्रो.शरद नारायण खरे

परिचय - प्रो. शरद नारायण खरे

प्राध्यापक व अध्यक्ष इतिहास विभाग शासकीय जे.एम.सी. महिला महाविद्यालय मंडला (म.प्र.)-481661 (मो. 9435484382 / 7049456500) ई-मेल-khare.sharadnarayan@gmail.com