प्राइवेट जाॅब

प्राइवेट जाॅब

चाय का कप उठाने ही वाला था कि हाथ लगा और कप के भीतर की चाय अपनी सारी मर्यादाओ को तोड़ते हुये फर्श पर जा गिरी। एक ओर प्लेट और दूसरी ओर कप के टुकड़े नजर आने लगे, कानों में कप टूटने की आवाज अभी भी साफ सुनाई दे रही थी फिर अचानक कुछ पलों के लिये सन्नाटा..
पीछे से धर्मपत्नी की आवाज आई कि चाय तो आराम से पी लेते। 23 24 साल हो गये है इस मालिक के साथ, कभी भी देर नहीं हुयी । एक बार देर हो भी जायेगी तो पहाड़ थोड़े ही टूटेगा।
अब पत्नी को क्या कहता कि पिछले दो दिनो से मन व्याकुल सा है। बस यही लगता है कुछ बुरा, बहुत बुरा होने वाला है। पर क्या ? पता नहीं।
अपनी वर्दी पहनी और गाड़ी लेकर चल पड़ा अपने मालिक के घर उन्हे लेने। उस दिन सारे देवी देवता, जीसस और अल्लाह से यही मनाता हुआ कि कहीं देर न हो जाये।
मालिक के बँगले पर पहुँचा तो गार्ड ने बताया कि मालिक तो आज दूसरी गाड़ी लेकर दफ्तर के लिये निकल चुके हैं। मै भी गाड़ी घुमाकर दफ्तर की ओर जाने लगा। रास्ते में कितनी बार हनुमान चालिसा पढी होगी ये तो याद भी नहीं।
आॅफिस पहुँचा तो पता नहीं क्यों पर सभी कुछ बदला बदला सा नज़र आ रहा था। आॅफिस के मैनेजर ने मुझे देखकर कहा “आप आ गये बंशीकाका” चलो ठीक है आप गाड़ी की चाभी आॅफिस में जमा कर दो और 2 3 दिनों में फोन करके आ जाना और अपना हिसाब ले जाना।
क्यों……म…….ग….र…..हु…आ…क्या..?
कुछ नही बंशीकाका। मैनेजर ने बताया कि मालिक ने कहा है कि अब आप बूढे हो गये हो और आपको आराम करना चाहिये। दो चार दिन में जो भी आपने इस महिने 12 13 दिन काम किया है, उसका हिसाब बना देंगे तो आकर ले जाना।
मुझे समझ नहीं आ रहा था मैं क्या करूँ ? क्या कहूँ ?
आँखों से आँसू ऐसे बाहर आ रहे थे मानो कि कोई सूनामी हो जो अपने साथ मुझे भी बहाकर अनन्त में ले जाना चाहती हो। एक एक करके सारे अपशगुन याद आने लगे जो पिछले 2 3 दिनों से मेरे साथ घट रहे थे। ऐसा कैसे…
पिछले 23 साल की वफादारी और सेवा को एक पल में खत्म…
कुछ तो कारण होगा। मगर क्या…? मै बूढा हो गया, हाँ। सारी जवानी सेवा की और अब.
अब क्या.. कहाँ…कुछ तो…मैं…
बस स्तब्ध होकर सामने पड़ी कुर्सी पर जा बैठा। मन में सवालो का भूचाल थमने का नाम नहीं ले रहा था। कहाँ जाउँगा ? क्या करूँगा ? कौन मेरी मदद करेगा ? और …बुढापा…
मै लेबर कोर्ट जाऊँ, मगर कहूँगा क्या ? न तो मेरी पगार बैंक खाते में आती थी। न हीं कोई पीएफ या ईसीएस पॅालिसी कराई गयी और न हीं कोई नियुक्ति पत्र मिला इस संस्थान से…. कौन मानेंगा और मेरे पास प्रमाण क्या है? कि मै इस संस्थान का कर्मचारी रहा हूँ…एक ना और कहानी खत्म… दिन ढल रहा था पर मै और मेरे सवाल वहीं रूके रहे और इन्तजा़र करते रहे कि क्या होगा…?
“ऐसे एक नही हजा़रों बंशीकाका या कोई सीमा काकी हैं जो अपनी सारी उम्र किसी संस्थान में कार्य करते हुये गुजार देते है और सिर्फ एक ना कहकर उनकी सेवायें समाप्त कर दी जाती हैं। उन्हे वेतन के नाम पर छला जाता है। कैश में 200 रू देकर 2000 का बिल बनाया जाता है। संस्था उनका कोई भी प्रमाण नहीं रखती कि ये लोग संस्था के कर्मचारी हैं। बुढापे के लिये पीएफ, और ईसीएस जैसी सुविधायें जो सरकार कर्मचारियों को देती है वो तो उनके लिये एक सपने से ज्यादा कुछ नहीं। न चाहकर भी ऐसे लोगों से बंधुआ मजदूरों की तरह काम लिया जाता है और सरकार के कुछ विभाग जानकर भी अन्जान बनी हुये हैं। कर्मचारियों को आज भी कैश में एैश का सपना दिखाकर सरकारी टैक्स की करोंड़ो की चोरी फैक्ट्री मालिक बड़े आराम से कर जाते है। कोई है जो इन कर्मचारियों का उद्धार कर सके।

सौरभ दीक्षित “मानस”
9760253965

परिचय - सौरभ दीक्षित मानस

नामः- सौरभ दीक्षित पिडिट्स पताः- भवन संख्या 106, जे ब्लाक, गुजैनी कानपुर नगर पिन 208022, उत्तरप्रदेश मो 8004987487, 9760253965