भाषा सहोदरी हिंदी न्यास द्वारा सातवां अंतर्राष्ट्रीय हिंदी अधिवेशन

भाषा सहोदरी हिंदी न्यास द्वारा सातवां अंतर्राष्ट्रीय हिंदी अधिवेशन दिनांक 11-12 नवंबर 2019 को सम्पन्न हो गया और 13 नवंवर को संसद भवन में समापन भ्रमण के साथ अन्नेक्सि मे गोष्ठी के साथ संपन्न हुआ| भारत के सभी राज्यो से एक हजार प्रतिनिधियों ने इस अधिवेशन में हिस्सा लिया | उद्घाटन सत्र के मुख्य अतिथि  केंद्रीय गृह राज्य मंत्री भारत सरकार श्री नित्यानंद राय, पद्मश्री डॉ सी पी ठाकुर संसद एवम पूर्व केंद्रीय मंत्री भारत सरकार, डॉ सुधांशु त्रिवेदी संसद, श्रीमती मृदुला सिन्हा पूर्व राज्यपाल, श्री नंदकिशोर पांडेय निदेशक केंद्रीय संस्थान आगरा, डॉ रमा प्राचार्य हंसराज कॉलेज दिल्ली विश्वविद्यालय, भाषा सहोदरी हिंदी न्यास के मुख्य संयोजक जय कान्त मिश्रा ने बताया कि देश विदेश से साहित्यकार,लेखक,शिक्षक,कुलपति,प्रोफेसर ,पत्रकार, हिंदी प्रेमी,सभी की उपस्थिति ने इस अधिवेशन को सफल बनाने में अपना योगदान दिया|
श्री नित्यानंद राय गृह राज्य मंत्री जी ने अपने संबोधन में कहा कि सरकारी कार्यालयों में देश विदेश में मजबूत हुई हिंदी,डॉ सी पी ठाकुर जी ने कहा कि देश की न्यायपालिका कार्यपालिका विधायिका में हिंदी पूर्ण रूप से लागू हो, वही जय कान्त मिश्रा ने कहा कि अंग्रेजी की अनिवार्यता भारत से समाप्त होनी चाहिए आज हिंदी का छात्र डॉक्टर,इंजीनियर, सी ए, नही बन सकता 40 % छात्र यही ड्राप हो जाते, साथ ही ज्ञान विज्ञान की भाषा बने हिंदी,मृदुला जी ने कहा देश मे हिंदी साहित्य से होगा हिन्द का विकास हिंदी के पाठक दुनिया मे बढ़े है, सुधांशु जी ने लोगो मे हिंदी को जागरूक बनाने पर ज्यादा जोर दिया हिंदी जन जन की हर घर की भाषा बने इसका प्रयास हम सब को मिलकर करनी चाहिए,हिंदी हमारी संस्कृति का हिस्सा है
— जय कान्त मिश्रा
मुख्य संयोजक