चाय की चुस्कियों की दास्तान

       सुबह-सुबह आखें खुलते ही सबसे पहले चाय की ही तलब लगती है। सुबह और शाम अगर चाय नहीं पी तो दिन अधूरा सा लगता है। भारत ही नहीं बल्कि दुनिया भर में आपको चाय के शौकीन हर घर में मिल जायेंगे। ये हर मौसम में पीये जाने वाला पसंदीदा पेय बन गया है । चाय का इतिहास जितना रोचक है इसकी उतनी ही कहानियाँ हैं।
        तकरीबन 2700 ई. पूर्व चीनी शासक शेन नुगं अपने  बगीचे में पेड़ के नीचे बैठे गर्म पानी पी रहा था तभी तेज हवा चली और पेड़ की एक पत्ती उसके पानी में गिर गई जिससे पानी का रंग बदल गया। फिर उसमें से खुशबू आने लगी तथा पीने के बाद वह पानी बहुत ही स्वादिष्ट लगने लगा और अनायास ही चाय का अविष्कार हो गया।
       दूसरी कहानी के अनुसार 750 ई़ पूर्व बौद्ध भिक्षुओं ने इसका उपयोग किया था। जब बौद्ध भिक्षु गहन चिंतन करते और उन्हें नींद आने लगती थी तो नींद से बचने के लिए वे ‘बुश’ की पत्तियों को चबाना शुरु करते जिससे उन्हें नींद नहीं आती…। ‘बुश’ की पत्ती का उपयोग भिक्षुओं ने नींद त्यागने की औषधि के रूप में किया। बाद में यही पौधा चाय के पौधे के रूप में पहचाना गया।
        6वीं शताब्दी में चाय पीने की परंपरा चीन से जापान पहुंची। चीन से चाय का व्यापार करने का पहला अधिकार पुर्तगाल को मिला । एशिया महाद्वीप में चाय का प्रवेश 19 वीं शताब्दी में हुआ था , जब ब्रिटिश शासकों ने सीलोन और ताइवान में चाय की खेती शुरू की थी।
    सन् 1824 में बर्मा और असम की पहाड़ियों में चाय के पौधे पाये गये। अग्रेंजो ने भारत में चाय का उत्पादन 1836 में शुरू किया। पहले खेती के लिए बीज चीन से आते थे फिर बाद में असम के चाय के बीजों का प्रयोग किया जाने लगा। भारत में चाय का उत्पादन ब्रिटेन के बाजारों में चाय की मांग को पूरा करने के लिए  किया जाता था। 19 वीं शताब्दी तक चाय की मांग भारत में नहीं थी।
19वीं शताब्दी में जब अंग्रेजों का भारत में बहुतायत आगमन हुआ तो उन्हें पता चला कि असम के लोग काले रंग का एक पेय पदार्थ पीते हैं जो पत्तियों से बनता है।  तब ये  चाय के बीज व पौधों को लेकर कोलकाता में शोध किया गया। ब्रिटिश सरकार ने असम- चाय की शुरुआती पैदावार पर पैसा नहीं खर्च करने का फैसला किया, लेकिन जब बाद में असम चाय की कीमत समझ आई तो  इसका  व्यापार करने का फैसला किया और बाॅटनिकल गार्डन बनवाये और चाय के बगान तैयार करवाये। चाय के व्यापार ने  भारत में बहुत विकास किया और यही कारण है कि भारत चाय के उत्पादन में नंबर वन देश है।
 असम में भारत का सबसे बड़ा चाय अनुसंधान केन्द्र है, जो असम के जोरहाट में टोकलाई पर स्थित है। असम ही पूरे देश में एक ऐसी जगह है जहाँ पर चाय एक समतल जमीन पर उगाई जाती है, इसी कारण यहाँ की चाय का स्वाद भी कुछ अलग व खास होता है । असम से सटे दार्जिलिंग में साल 1841 से चीनी चाय के पौधे उगाये जाते हैं। इस चाय की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में काफी अधिक है साथ ही इसकी मांग भी बहुत अधिक है। हिमाचल प्रदेश के कागड़ा में हरी व काली चाय की पैदावार होती है तथा दक्षिण भारत के नीलगिरि के पठारी क्षेत्र में एक विशेष प्रकार का फूल खिलता है जिसका नाम ‘कुरिंजी’ है। यह 12 वर्ष में एक बार खिलता है। इसकी महक के कारण यहाँ उगने वाली चाय में एक असाधारण सुगंध व स्वाद महसूस होता है। यहाँ उगने वाली चाय की गुणवत्ता श्री लंका में उगने वाली चाय के समान होती हैं ।
        चाय के पौधे की आयु 100 वर्ष होती है। अगर इन्हें काटा न जाये तो यह नीम के पेड़ जैसे विशाल हो जातें हैं। इनकी जड़े इतनी मजबूत होती हैं कि आसानी से उखाड़ना संभव नहीं होता। बगानों मे खेती और पत्तियों को तोड़ने से लेकर हम तक पहुंचने से पहले चाय को अनेक प्रक्रियाओं से गुज़रना पड़ता है।
ब्रिटिश संसद ने व्यापार के संबध में नया कानून बनाया था। इस कानून के अनुसार ईस्ट इंडिया कम्पनी को अमेरिका में चाय भेजने की अनुमति दी गई थी।चाय के व्यापार को बढ़ाने के लिए मूल्य में कमी की गयी थी, फलस्वरूप अमेरिकनों को सस्ती चाय मिल जाती थी और ईस्ट इंडिया कम्पनी को भी लाभ मिल जाता था। लेकिन अमेरिकी उपनिवेशवासियों ने इसे बिट्रिश सरकार की चाल समझा। उनहोंने सोचा कि यदि संसद व्यापारिक मामलों पर एकाधिकार कायम कर लेगी तो इससे उपनिवेश में व्यापार को हानि होगी। ईस्ट इंडिया कम्पनी के कुछ जहाज  बोस्टन बंदरगाह में ठहरे हुए थे। बोस्टन के नागरिकों ने जहाज को लूट लिया और लगभग 342 चाय के बक्सों को समुद्र में फेंक दिया । इतिहास में यही घटना ‘बोस्टन-टी-पार्टी के’ नाम से मशहूर हुई।
   अन्तरराष्ट्रीय चाय दिवस की शुरुआत भारत में 2005 में की गयी लेकिन एक साल के बाद इसे श्री लंका में भी मनाया गया और वहाँ से विश्व में फैला। चाय दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य चाय बगान से लेकर चाय की कंपनियों तक काम करने वाले श्रमिकों की स्थिति की ओर ध्यान खींचना है। यह ’15 दिसम्बर ‘को मनाया जाता है। पानी के बाद चाय ऐसा पेय है जो दुनिया में सबसे ज्यादा पीया जाता है। इसकी शुरुआत केवल सर्दियों में दवाई की तरह पी जाने से हुई थी किन्तु इसे रोज पीने की शुरुआत भारत में हुई। यह अफगानिस्तान व ईरान का राष्ट्रीय पेय है। आज के समय में इसकी 1500 से भी ज्यादा किस्में हैं। इसमें एंटीआक्सीडेट्स होते हैं, जो उम्र बढ़ने में आपकी रक्षा  करते हैं। आज यह आलम है कि चाय के बिना जिंदगी अधूरी सी है। अतिथियों के स्वागत से लेकर स्वयं की तृप्ति का यह सर्वसुलभ, सर्वप्रिय और सर्वव्यापी पेय है।
— नीति सिंह प्रेरणा

परिचय - नीति सिंह प्रेरणा

पत्नी श्री नवनीत सिंह सिविल लाइंस, प्रयागराज, उत्तर प्रदेश navneet.prerana@gmail.com स्नातकोत्तर इतिहास एवं शिक्षा प्रशिक्षण में स्नातक लेखन में बचपन से रुचि किन्तु अनुकूल परिवेश देखकर लेखन की ओर अग्रसर समय की तेज धार में छूटे हुए विविध विषयों को पुनर्जीवित करने का प्रयास ही लेखन का मूल उद्देश्य।