सामाजिक

यक्ष प्रश्न

दिन-रात की भागदौड़, व्यस्तता की मारधाड़ और अधिक से अधिक पा लेने की चाह में, लगता है रिश्ते कहीं खो से गए हैं ! एक छोटे से कमरे में अपने पति और बच्चों के साथ रहने वाले माँ-बाप के लिए, आज बच्चों के चार बेडरूम वाले फ्लैट में जगह नहीं है क्योंकि घर छोटा है ! सबको अपना – अपना कमरा चाहिए और गेस्ट रूम में आनेजाने वालों के लिए या स्टडी रूम की तरह इस्तेमाल होता है, तो फिर माँ-बाप को कहाँ रखें ?

सच में यह यक्ष प्रश्न है 😢

— अंजु गुप्ता