कविता

इश्क सूफियाना

एक सूफियाना प्रयास
—————————–

ये इश्क और इश्क की दास्तां भी अजीब है
कल तक जो थे अजनबी ,आज दिल के करीब है
इश्क की दौलत से जिसे रब ने नवाजा
वही तो है अमीर , बाकी दुनिया गरीब है
इश्क है खुदा से , जुदा हो न जाना ऐ दिल
इश्क ही इबादत और इश्क ही रकीब है
आशिक हूँ अब मैं तेरा ,महबूब है तू मेरा
अब दे पनाह मुझको , तेरी दुनिया अजीब है

परिचय - राजकुमार कांदु

मुंबई के नजदीक मेरी रिहाइश । लेखन मेरे अंतर्मन की फरमाइश ।

Leave a Reply