नयन से आज ओ प्रियतम नयन ये चार होने दो।
कि ये तन आज फिर से प्रेम की बीमार होने दो।।
लिखूँ मैं भीगी पाती फिर नमी पलकों कोरों से।
कहीं अति दूर फिर से इक हृदय यलगार होने दो ।।

हवा ख़ुशबू बटोरे स्वांस संग हलचल करे भीतर
अधर बेचैन शब्दों के प्रबल उदगार रहने दो ।।
मचलती प्रीति ठुनके डोर पर नील नभ चढ़कर
विचलते दो पतंगों की तलब तक़रार होने दो ।।

सुखों की धूप पर थोड़ी दुःखों की ओस झरने दो ।
विरह की ज्वाल से जलते हुए तन को ठिठुरने दो ।।
तड़प जीने दो हृद आकुल को घनतम कोहासों की
लिहाफों को मिलन स्वप्नों के कुछ श्रृंगार करने दो ।।

बदलती ऋतु की डग चलके प्रीति परवान चढ़ती है।
समय प्रतिकूल अपनों से अपनी पहचान बढ़ती है।।
चलो हम भी धरा नभ से प्रकृति की रीति हर जी लें।
पर्व बुनती पवन को अब जिधर बहना है बहने दो ।।

प्रियंवदा अवस्थी

परिचय - प्रियंवदा अवस्थी

इलाहाबाद विश्वविद्यालय से साहित्य विषय में स्नातक, सामान्य गृहणी, निवास किदवई नगर कानपुर उत्तर प्रदेश ,पठन तथा लेखन में युवाकाल से ही रूचि , कई समाचार पत्र तथा पत्रिकाओं में प्रकाशित , श्रृंगार रस रुचिकर विधा ,तुकांत अतुकांत काव्य, गीत ग़ज़ल लेख कहानी लिखना शौक है। जीवन दर्शन तथा प्रकृति प्रिय विषय । स्वयं का काव्य संग्रह रत्नाकर प्रकाशन बेदौली इलाहाबाद से 2014 में प्रकाशित ।