कविता

अँधेरे में हैं ढूंढते रौशनी

जागने को तो जागे हुए हैं  सभी
पर अँधेरे में हैं ढूंढते रौशनी
दर बदर खाते रहते हैं जो ठोकरें
वो वक्त देख करके संभाते नहीं
प्यार करता है कोई तो नफरत मिले
चाहा था जिसे वह मिला ही नहीं
देखने को तो सब खुश दिखाई दिए
पर हैं चिंतित सभी मुंह पे रौनक नहीं
यन्त्र की भांति लगता है सब चल रहे
किसको जाना कहाँ यह पता ही नहीं
सबके अंदर ही होता उजाला मगर
क्यों हैं बाहर सभी ढूंढते रौशनी

— डा केवलकृष्ण पाठक

परिचय - डा केवल कृष्ण पाठक

जन्म तिथि 12 जुलाई 1935 मातृभाषा - पंजाबी सम्पादक रवीन्द्र ज्योति मासिक 343/19, आनन्द निवास, गीता कालोनी, जीन्द (हरियाणा) 126102 मो. 09416389481

Leave a Reply