गीतिका/ग़ज़ल

गीत -गीतिका

गीत/गीतिका

उठती है कुछ बात हृदय में
क्योंकर सत्य विसारा जाए
जा देखें रावण की बगिया
सीता समर निहारा जाए।।

छुवा नहीं उसने जननी को
जिसने धमकाया अवनी को
पतितों को बतलाया जाए
गिन राक्षस को मारा जाए
सीता समर निहारा जाए।।

संविधान सर्वोत्तम कृति है
जीवन अपनी अपनी वृति है
नैतिक मूल्य सँवारा जाए
न कि संपति जारा जाए
धर्म कथन अनुसारा जाए
सीता समर निहारा जाए।।

भीष्म पितामह की करनी को
दुर्योधन की बद चलनी को
धृतराष्ट्र मन मारा जाए
पांडवी राह बुहारा जाए

सीता समर निहारा जाए।।
महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

परिचय - महातम मिश्र

शीर्षक- महातम मिश्रा के मन की आवाज जन्म तारीख- नौ दिसंबर उन्नीस सौ अट्ठावन जन्म भूमी- ग्राम- भरसी, गोरखपुर, उ.प्र. हाल- अहमदाबाद में भारत सरकार में सेवारत हूँ

Leave a Reply