गीत/नवगीत

गीत

जैसे कान्हा भूल न पाये राधा की उन यादों को।
प्रियतम याद हमेशा रखना प्रेम राह के वादों को!

मेरा हाल हुआ राधा सा लेकिन तुम कान्हा ठहरे।
मेरे हर इक अश्क से प्रियतम घाव मिले तुमको घहरे।
आकर गले लगा लो मुझको, दूर करो अवसादों को।
प्रियतम याद हमेशा रखना प्रेम राह के वादों को।

सपने लाख दिखाये तुमने, आज नजर भी प्यासी है।
तेरी बाहें स्वर्ग बनी, चरणों में मथुरा, काशी है।
अपना दर्श करा दो प्रियतम पूर्ण करो फरियादों को।
प्रियतम याद हमेशा रखना प्रेम राह के वादों को!

प्रेम डोर ये टूट न जाये, ऐसा रास रचाओ तुम।
मीरा समझो या राधा पर,मुझको धीर धराओ तुम।
रखो सलामत प्रियतम आकर आशा की बुनियादों को।
प्रियतम याद हमेशा रखना प्रेम राह के वादों को।

भूल गये जिस गोकुल को तुम, तुमको याद दिलाउँगी।
कल्पन है किस्मत में मेरी जीवन इसे बनाउँगी ।
मुझे मनाने वाले क्यों तुम भूल गये संवादों को।
प्रियतम याद हमेशा रखना, प्रेम राह के वादों को।

— अनुपमा दीक्षित भारद्वाज

परिचय - अनुपमा दीक्षित भारद्वाज

नाम - अनुपमा दीक्षित भारद्वाज पिता - जय प्रकाश दीक्षित पता - एल.आइ.जी. ७२७ सेक्टर डी कालिन्दी बिहार जिला - आगरा उ.प्र. पिन - २८२००६ जन्म तिथि - ०९/०४/१९९२ मो.- ७५३५०९४११९ सम्प्रति - स्वतंत्र लेखन छन्दयुक्त एवं छन्दबद्ध रचनाएं देश विदेश के प्रतिष्ठित समाचार पत्रो एवं पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित प्रकाशाधीन पुस्तकें - लेकिन साथ निभाना तुम (खण्ड काव्य ) शिक्षा - परास्नातक ( बीज विग्यान एवं प्रोद्योगिकी ईमेल - adixit973@gmail.com

Leave a Reply