धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

सतरंगी समाचार कुञ्ज-16

आप लोग जानते ही हैं, कि ‘सतरंगी समाचार कुञ्ज’ में सात रंगों के समाचार हम लिखते हैं, शेष रंगों के समाचार कामेंट्स में आपकी-हमारी लेखनी से लिखे जाएंगे. आइए देखते हैं इस कड़ी के सात रंग के समाचार-

1.जाति का असली अर्थ-
आचार्य कृपलानी ने बताई मनुष्य की असली जाति-
ट्रेन का वह प्रथम श्रेणी का डब्बा था. किताब पढ़ते हुए आचार्य कृपलानी से एक सज्जन से पूछा, ‘श्रीमान! आप किस जाति से हैं?’

वह सज्जन बोले, ‘जब मैं सवेरे नित्यकर्म के लिए जाता हूं तो शूद्र बन जाता हूं। जब जीवन जीने के लिए संघर्ष करता हूं तो क्षत्रिय हो जाता हूं। जब कॉलेज में बच्चों को पढ़ाता हूं, तो ब्राह्मण बन जाता हूं। और जब अपने वेतन तथा खर्च आदि का हिसाब रखता हूं तो वैश्य हो जाता हूं। इसलिए मुझे कुछ समझ नहीं आता कि मैं किस जाति से हूं। अगर आप समझ सकते हैं, तो खुद ही जान लीजिए कि मेरी जाति क्या है।’ यह जवाब सुनकर सभी लोग शर्मिंदा हो गए। वह जवाब सुनकर सभी लोग शर्मिंदा हो गए। वह सज्जन कोई और नहीं बल्कि आचार्य कृपलानी थे।

2.मिलन का सुख-
47 वर्षों बाद मिली दो बहनें, 1973 में देखा था एक-दूसरे को आखिरी बार
पिछले हफ्ते 98 साल की बन सेन, अपनी 101 वर्षीय बहन बन चिया और और 92 वर्षीय भाई से मिलीं। दोनों बहनों की आंखें नम थीं. क्योंकि यह मुलाकात 47 वर्षों बाद हो रही थीं. वक्त ने उन्हें इतना दूर कर दिया था कि दोनों को लगता था उनमें से किसी एक मौत हो गई होगी. उन्होंने आखिरी बार एक-दूसरे को साल 1973 में देखा था. कंबोडिया में पोल पॉट के नेतृत्व वाली खमेर रूज (कंबोडिया की कम्यूनिस्ट पार्टी) के सत्ता में आने के ठीक दो साल पहले. खेमर रूज के शासन काल (1975-1979) में लगभग 20 लाख लोगों की मौत हुई थी

3.हर समस्या का समाधान होता है-
चीन / महिला ने एंटी-कोरोनावायरस टेंट बनाया ताकि बेटी घर के बाहर ऑनलाइन पढ़ाई कर सके

चीन में लोगों को कोरोनावायरस के कहर की वजह से काफी परेशानी उठानी पड़ रही है। बाजार, ऑफिस और ट्रांसपोर्ट बंद हैं। लोग घर में कैद हैं। यहीं से काम कर रहे हैं। ऐसा ही नजारा हुबेई प्रांत के सुदूर गांव में देखने को मिला। यहां एक महिला ने अपनी बेटी की ऑनलाइन क्लासेस के लिए घर से बाहर एंटी-कोरोनावायरस टेंट बनाया है। दरअसल, उसके घर के अंदर इंटरनेट नेटवर्क ठीक से नहीं मिलता है। इसलिए उसने घर के बाहर टेंट लगाकर अस्थाई क्लास रूम बना दिया। अब उसकी बेटी बी मेनगी रोज यहां बैठकर बिना किसी रुकावट के ऑनलाइन क्लास ज्वाइन करती है।

चीन के कई प्रांतों में स्कूल और कॉलेज की छुट्टियां घोषित कर दी हैं। स्कूल बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाई करा रहे हैं, ताकि उन्हें वायरस के संक्रमण से बचाया जा सके। वायरस के कारण स्कूलों में छुटि्टयां घोषित कर दी गई हैं। लेकिन बच्चों की पढ़ाई का नुकसान न हो, इसलिए शिक्षक ट्‌यूटोरियल बनाकर मोबाइल एप और लाइव स्ट्रीमिंग के जरिए कक्षाएं ले रहे हैं।

4.नए एंटीबायोटिक की खोज-
पहली बार / एआई की मदद से तैयार किया नया एंटीबायोटिक, यह ई-कोली जैसे जानलेवा बैक्टीरिया आसानी से खत्म करेगा
अमेरिका के मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) के वैज्ञानिकों ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) की मदद से पहली बार नया एंटीबायोटिक तैयार किया है। इससे दुनिया के खतरनाक और दवा को बेअसर कर देने वाले बैक्टीरिया को खत्म किया जा सकेगा। जर्नल सेल में प्रकाशित शोध के मुताबिक वैज्ञानिकों ने इस नए एंटीबायोटिक को हेलिसिन नाम दिया है। यह काफी ताकतवर है, जो ई-कोली जैसे बैक्टीरिया को भी आसानी से खत्म कर देता है।

5.आइस एज के पक्षी का अवशेष
साइबेरिया / आइस एज के पक्षी का अवशेष मिला, विशेषज्ञों ने कहा- 46 हजार साल बाद भी अच्छी स्थिति में है
स्वीडिश म्यूजियम ऑफ नेचुरल हिस्ट्री के विशेषज्ञों को साइबेरिया में 46 हजार साल पुराने पक्षी का अवशेष मिला है। विशेषज्ञों का कहना है कि इसे बेहद अच्छे ढंग से संरक्षित किया गया था। यह पक्षी हॉर्न्ड लार्क है, जो पूर्वी रूस और मंगोलिया में अभी भी पाया जाता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इसे साइबेरिया के बेलाया गोरा गांव में स्थानीय शिकारियों ने खोजा था। रेडियोकार्बन तकनीक से खुलासा हुआ कि यह 46 हजार साल पहले का है। हैरानी बात है कि इतने सालों के बाद भी यह पूरी तरह खराब नहीं हुआ था। इसके बारे में जानने के लिए इसे एक्सपर्ट निकालाज डुसेक्स और लव डेलेन को सौंप दिया था। इस खोज से जुड़ा रिसर्च जनरल कम्युनिकेशन बायोलॉजी में शुक्रवार को प्रकाशित किया गया है। जानकारों का कहना है कि साइबेरिया बेहद ठंडा इलाका है। यहां साल के अधिकतम दिन तापमान माइनस में रहता है। यही वजह रही कि इतने साल बाद भी इसके शरीर को कोई नुकसान नहीं पहुंचा।

6.अजीब कशमक्श!
ईपीएल / यूनाइटेड के 10 साल के फैन ने लिवरपूल के मैनेजर को हारने के लिए चिट्‌ठी लिखी, जवाब मिला- अपील नहीं मान सकता
इंग्लिश फुटबॉल क्लब मैनचेस्टर यूनाइटेड का एक 10 साल का फैन उस समय चौंक गया, जब लिवरपूल के मैनेजर जुर्गेन क्लोप ने उसके लिखे लैटर का जवाब भी दिया। 10 साल के डराघ कुर्ले ने 52 साल के जर्मन मैनेजर क्लोप को लिखा कि वे कुछ मैच हार जाएं ताकि उनकी टीम इस सीजन में इंग्लिश प्रीमियर लीग का खिताब न जीत सके।

डराघ ने लिखा, ‘अगर आप 9 मैच और जीत जाते हैं तो इंग्लिश फुटबॉल में सबसे ज्यादा मैच में अजेय रहने का रिकॉर्ड बना लेंगे। यूनाइटेड के फैन होने के नाते मेरे लिए यह बहुत दुखद बात होगी। इसलिए लिवरपूल जब अगली बार खेले तो आप कृपया हार जाएं।’
क्लोप ने इस बच्चे के लैटर के जवाब में लिखा, ‘दुर्भाग्यवश, इस बार मैं आपकी अपील को मान नहीं सकता। जितनी शिद्दत से आप चाहते हैं कि लिवरपूल हार जाए, उतना ही मेरा काम है कि मैं टीम को जीत दिलाने के लिए कोशिश करूं।’

7.लैरी टेस्लर का निधन
नहीं रहा दुनिया को Cut-Copy-Paste का जुगाड़ देने वाला साइंटिस्ट
कट, कॉपी, पेस्ट यूजर इंटरफेस के इन्वेंटर लैरी टेस्लर का निधन हो गया है वो 74 साल के थे. लैरी टेस्लर कंप्यूटर साइंटिस्ट थे जिन्हें यूजर इंटरफेस को लेकर कई बड़े रिसर्च के लिए जाना जाता

कट, कॉपी और पेस्ट – ये एक ऐसा टर्म है जिसके बिना शायद ही आप कंप्यूटर या सोशल मीडिया पर जरूरी काम कर सकते हैं. कट, कॉपी पेस्ट को जिन्होंने इन्वेंट किया वो शायद स्टीव जॉब्स जितने पॉपुलर तो न हो सके, लेकिन उनका योगदान अहम है.

कट, कॉप और पेस्ट यूजर इंटरफेस यानी UI को दरअसल एक साइटिंस्ट ने तैयार किया था. इस साइंटिस्ट का नाम लैरी टेस्लर है और इनका निधन हो गया है.

कुछ फटाफट सुर्खियां-
1.डॉक्टर की कुर्सी पर बैठा मानसिक रोगी, कई मरीजों का किया ‘इलाज’
2.फिल्मी है ये कहानी! 1 करोड़ का वॉट्सऐप वाला लव, फिर धोखा और धमकी
3.आपने देखी सूर्य, अंतरिक्ष की यह पहली तस्वीर?
4.जघन्य अपराध में शामिल नाबालिग पर ऐडल्ट की तरह केस? प्लानिंग में सरकार
5.गवर्नर ने दिया था सुझाव, ‘गर्भ संस्कार’ पर कोर्स शुरू करेगा लखनऊ विश्वविद्यालय
6.अमेरिका / ट्रम्प ने आयुष्मान खुराना की फिल्म ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ की तारीफ की, ट्विटर पर लिखा- ग्रेट
7.अदरक का पानी करेगा जादुई असर, पीरियड पेन से लेकर वजन कम करने में करेगा मदद
अदरक के औषधीय गुणों से सभी वाकिफ हैं। यही वजह है कि इसका उपयोग न सिर्फ आयुर्वेद में बल्कि भारतीय खानों में भी जरूर किया जाता है। जितनी गुणकारी अदरक है उतना ही गुणकारी अदरक का पानी भी है। इसमें मौजूद जिंजरोल, फाइबर, कैल्शियम, पोटैशियम, ऐंटीऑक्सिडेंट जैसे तत्व हेल्थ को कई तरह से फायदा पहुंचाते हैं।

आशा है आपको सतरंगी समाचार की यह कड़ी भी पसंद आई होगी. आप भी कामेंट्स में विभिन्न रंगों के ऐसे अनोखे-रोचक-जागरूकता से ओतप्रोत सकारात्मक समाचार लिख सकते हैं.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।

One thought on “सतरंगी समाचार कुञ्ज-16

  1. घोंघे की एक नई प्रजाति की खोज
    ब्रुनेई / वैज्ञानिकों ने घोंघे की एक नई प्रजाति खोजी, ग्रेटा थनबर्ग का नाम दिया
    ब्रुनेई में वैज्ञानिकों ने घोंघे की एक नई प्रजाति की खोज की है। तापमान के प्रति संवेदनशील इस प्रजाति का नाम पर्यावरण एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग के नाम पर क्रास्पेडोट्रोपिस ग्रेटाथनबर्ग रखा गया है। ग्रेटा जलवायु परिवर्तन को लेकर दुनियाभर में जागरुकता फैलाने का काम कर रही हैं। यह सम्मान इन्हीं प्रयासों को देखते दिया गया है।

    वैज्ञानिकों का कहना है कि ग्रेटा थनबर्ग के नाम पर इसका नामकरण करने के पीछे हमारा उद्देश्य यह बताना है कि थनबर्ग की पीढ़ी को उन समस्याओं का समाधान भी ढूंढना होगा, जिन्हें उन्होंने पैदा नहीं किया। यह घेंघा दो मिमी लंबा और एक मिमी चौड़ा है।

Leave a Reply