कविता

संभव विडम्बना भी

संभव विडम्बना भी
                       साथ है मेरे
               उल्लास भी बहुत है
               परिहास भी कम नहीं
                  मन हृदय की विवशता
                 हरदम निकट है मेरे
                  प्रयास करने पर भी
                  दूरियां घट नहीं रहीं
                     मगर एक आश है
                           मेरे मन में
                   कभी न कभी
                ये विडम्बनाएं तो
              दूर होगी ही मुझसे।।
  — मनोज बाथरे 

परिचय - मनोज बाथरे

चीचली (जैन मंदिर के पास) जिला नरसिंहपुर मध्य प्रदेश पिनकोड 487770 विगत 20 वर्षो से साहित्य सेवा, तत्कालीन समय में कुछ रचनाएं विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई। वर्तमान समय में पुनः साहित्य के क्षेत्र में कुछ योगदान देने की इच्छा जागृत हुई तो सक्रिय हुआ।

Leave a Reply