इतिहास

महर्षि संतसेवी परमहंस की जन्मशताब्दी

बिहार, झारखंड, पूर्वांचल, प. बंगाल के पश्चिमी क्षेत्र और नेपाल, भूटान, जापान तक फैले संतमत सत्संगियों के आदर्श सद्गुरुदेव ब्रह्मलीन महर्षि मेंहीं परमहंस के उत्तराधिकारी महर्षि संतसेवी जी का जन्म 20 दिसम्बर 1920 को बिहार के मधेपुरा जिला के गम्हरिया में कायस्थकुल में जन्म लिए ‘महावीर लाल’ ही महर्षि मेंहीं के सान्निध्य में ‘संतसेवी’ हो गए । सद्गुरुदेव के अविवाहित रहने पर वे भी एतदर्थ संन्यासी और आजन्म ब्रह्मचारी रहे, किन्तु महर्षि मेंहीं के कहने पर कटिहार जिले के मनिहारी और नवाबगंज में बच्चों को पढ़ाने लगे।

वर्ष 1930-31 में महर्षि मेंहीं द्वारा स्थापित पहला संतमत सत्संग मंदिर नवाबगंज में बना और फिर मनिहारी गंगातट पर साधना कुटी बना, जहाँ स्वामी संतसेवी अंतेवासीरूपेण रहने लगे, यहीं कई आध्यात्मिक ग्रंथों का प्रणयन भी किया । ‘योग महात्म्य’ नामक प्रसिद्ध ग्रंथ की रचना यहीं की गई थी। विदित है, उनके आध्यात्मिक गुरु महर्षि मेंहीं रचित ‘सत्संग योग’ एक महत्वपूर्ण पुस्तक है, जो चार भागों में है।

ध्यातव्य है, ‘योग महात्म्य’ और ‘सत्संग योग’ ग्रंथ को भारत के पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी ने भी सराहे हैं। ‘महर्षि संतसेवी हीरक-जयंती अभिनंदन ग्रंथ’ में भारतरत्न अटल बिहारी वाजपेयी जी के शुभकामना-पत्र भी प्रकाशित है, तब वाजपेयी जी लोकसभा में प्रतिपक्ष के नेता थे । स्वामी संतसेवी को ‘महर्षि’ विभूषण सनातन हिन्दू धर्म के एक शंकराचार्य ने प्रदान किया था । देश के राष्ट्रपति रहे डॉ. शंकर दयाल शर्मा महर्षि संतसेवी के विचारों से प्रभावित रहे हैं । भारत रत्न श्री वाजपेयी सहित श्री चंद्रशेखर, श्री नरेन्द्र मोदी से लेकर बिहार, झारखंड सहित कई राज्यों के राज्यपाल, मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री, आईएएस, आईपीएस, अभिनेता, अभिनेत्री, खिलाड़ी इत्यादि महर्षि मेंहीं और महर्षि संतसेवी के विचारों से प्रभावित रहे हैं।

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply