आत्मकथा कथा साहित्य

असली कोरोना वारियर्स (लघुकथा)

एक-दूसरे से वे दोनों कई वर्षों से प्रेम करते थे । दोनों के बालिग हुए भी कई बरस हो गए थे। इसबार की होली में दोनों खूब होली खेले थे, परंतु शादी से पहले दोनों ने ही शारीरिक-संबंध को ‘ना’ कहे थे। दोनों प्रेम के प्रति बेहद अनुशासित थे।
×××
कोरोना कहर के कारण देश में लॉकडाउन हुई, जिसमें पहले सोशल डिस्टेंसिंग, फिर बाद में फिजिकल डिस्टेंसिंग के नियम कड़ाई से गठित हुई। दोनों मोबाइल से ही हालचाल लेते रहे। वे इतने अनुशासित थे कि शादी की बात कई वर्षों के लिए टाल दिए….
कारण न दहेज आड़े आई, न दूसरी जाति आड़े आई, न दूसरे धर्म ही, न गरीबी-अमीरी आड़े आई, न बेरोजगारी आड़े आई ! आड़े तो आई, सिर्फ ‘फिजिकल डिस्टेंसिंग’, क्योंकि जब शारीरिक दूरी है, तो शादी करके भी शारीरिक स्पर्श नहीं हो पाती !
×××
बावजूद, ऐसे अनुशासित ‘वारियर्स’ को लोग शुक्रिया भी नहीं करेंगे!

Leave a Reply