हास्य व्यंग्य

सब धान बाईस पसेरी

बिहार के नियोजित शिक्षकों का विजन 2020 यानी उनकी सोच लिए एक बिल्कुल ही नई व डेब्यू सरकार के साथ नियोजित शिक्षक केंद्रित हो ! अगर परिवार में किसी को चपरासी की नौकरी है, तो उनके बच्चे डॉक्टर, इंजीनियर या आईएएस नहीं होंगे क्या ? एक शिक्षक के चावल व आलू-प्याज चुराने से या छात्रा को भगाने से या उनके द्वारा सही से दिन के नामों का उच्चारण नहीं करने से सभी शिक्षक चोर, बेकार व फालतू, अनपढ़ व गँवार या आवारा कैसे हुए ?

सब धान बाइस पसेरी तो बिल्कुल नहीं सोची जानी चाहिए ! वैसे ही जदयू माने सिर्फ नीतीश जी नहीं है या भाजपा माने सिर्फ़ सुशील मोदी जी ही हो, ऐसी बात नहीं ! हमें व्यक्तिवादों से मुक्ति चाहिए । बहरहाल, इन दोनों के रहते ‘नियोजित’ शिक्षकों का भविष्य गर्त में ही रहेगा ! ऐसा 2020 के प्रसंगश: अगर कहा जाता है, तो यह चौंकनेवाली बात रही कहाँ ?

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply