समाचार

कवयित्री विश्वफूल को ‘राष्ट्रीय कबीर पुरस्कार’

महाकवि नागार्जुन ट्रस्ट, मधुबनी ने सुश्री स्वर्णलता ‘विश्वफूल’ को ‘राष्ट्रीय कबीर पुरस्कार 2007’ प्रदान किया, तो लिखा, “हिंदी कविता में महत्वपूर्ण योगदान , खासकर हिंदी दलित कविता लेखन के क्षेत्र में अवदान के लिए यह पुरस्कार दिया जा रहा है । महाकवि नागार्जुन ट्रस्ट ने इससे पूर्व प्रो. अरुण कमल, डॉ. खगेन्द्र ठाकुर, त्रिपुरा के पूर्व राज्यपाल प्रो. सिद्धेश्वर प्रसाद, डॉ. सुरेन्द्र ‘स्निग्ध’, डॉ. जितेंद्र राठोर, श्रीमती महासुन्दरी देवी, श्री ईश्वरचंद्र गुप्त, डॉ. पी. आर. सुल्तानिया और डॉ. ए. के. ठाकुर जैसी हस्तियों को विभिन्न क्षेत्रों में महत्वपूर्ण योगदान के लिए सम्मानित किया है।” सम्मान-पत्र  2020 भी प्राप्त । अनंत शुभकामनाएँ !

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply