भाषा-साहित्य लेख

हाटे-बाज़ारे एक्सप्रेस

तारीख 22 नवंबर 1999 को तत्कालीन रेल मंत्री ममता बनर्जी ने बनफूल की प्रसिद्ध कहानी ‘हाटे बजारे’ के नाम पर कटिहार से सियालदह (कोलकाता) के बीच उनकी एक कृति के नाम पर ‘हाटेबजारे एक्सप्रेस’ ट्रेन चलवाई थी। अब यह ट्रेन उसी नाम से सहरसा- सियालदह (कोलकाता) वाया कटिहार होकर चलती है। भारत सरकार द्वारा ‘पद्मभूषण’ मिलने के बावजूद बिहार सरकार, प. बंगाल सरकार, झारखंड सरकार द्वारा उचित सम्मान नहीं मिलने से उनके परिजन आहत हैं। उनकी जन्मस्थली व मनिहारीवासियों का कहना है कि ‘बनफूल’ के आवास डाकबंगला समीप (जहाँ अभी उनके भतीजे श्री उज्ज्वल मुखर्जी उर्फ़ मुकुल’दा रह रहे हैं) तथा मनिहारी पीएचसी समीप स्थल को ‘बनफूल जन्मस्थली’ के रूप में बिहार सरकार विकसित करें, तो स्मृति सँजोने के साथ -साथ यह पर्यटन क्षेत्र के रूप में भी विकसित होगा ! अगर पद्म अवार्ड -प्रोटोकॉल के मानिंद भी सोची जाय, तो पद्मश्री प्राप्त करनेवाले फणीश्वरनाथ रेणु की बिहार सरकार पूजा करते हैं, किन्तु पद्मभूषण प्राप्त करनेवाले बनफूल की इतनी उपेक्षा क्यों ? मनिहारीवासी उनकी धरोहर को स्मारक व मेमोरियल के रूप में देखना चाहते हैं!

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply