कविता

तन्हा सफ़र

हूँ मैं सफ़र में तन्हां,
तेरा साथ ख़यालो में है,
इस तन्हां सफ़र में … ,
बस तेरी ही कमी है।
वर्षों तक जो तेरे साथ,
मैंने जो सफ़र किया..,
आज इस तन्हां सफ़र में,
तेरी याद जो आ रही है।
ये सफ़र तन्हां ज़रूर है,
लेकिन लक्ष्य साथ है मेरे,
आयेगा वो भी एक दिन,
जब सफ़र में तेरे साथ हूँगी।
—सीमा राठी

परिचय - सीमा राठी

सीमा राठी द्वारा श्री रामचंद्र राठी श्री डूंगरगढ़ (राज.) दिल्ली (निवासी)

Leave a Reply