शिशुगीत

कबूतर

मेरी ममी मुझे पढ़ातीं,कबूतर में लगी थी इलेक्ट्रॉनिक चिप ...
‘क’ कबूतर कहना सिखातीं,
मैं कहता तब ”कहां कबूतर?”,
”वह तो है घोंसले के अंदर.
गुटरूं-गूं-गूं करता है,
प्यारा-प्यारा होता है,
खूब काम का पक्षी है यह,
कुशल डाकिया होता है.”