इतिहास

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस और भारतरत्न डॉ. विधानचंद्र राय

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस यानी नेशनल डॉक्टर्स डे पर देश के चिकित्सकों को सादर अभिनंदन है । दरअसल पटना, बिहार के बाँकीपुर मोहल्ले में जन्मे भारतरत्न डॉ. विधानचन्द्र रॉय पश्चिम बंगाल के दूसरे मुख्यमंत्री थे, वे ताउम्र मुख्यमंत्री रहे, वो भी 14 वर्ष तक और उन्होंने डॉक्टरी शिक्षा यानी LMP और MD की डिग्री तब लिए, जब वे पटना कॉलेज से गणित में बी ए ऑनर्स हुए। डॉक्टरी शिक्षा के क्रम में वे मात्र एक पुस्तक ही खरीद पाए, वो भी 5 रुपये की ।

वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में महासचिव पद तक पहुंचे थे तथा मेडिकल शिक्षा के बाद MRCP और FRCS भी थे । वे प्रथम प्रधानमंत्री पंडित नेहरू के निजी चिकित्सक भी थे । उनकी जयंती पहली जुलाई को ‘राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस’ के रूप में मनाई जाती है । डॉक्टर्स दिवस पर देश के सभी डॉक्टर बंधुओं को कोरोना वारियर्स के रूप में प्रणाम।

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply