लेख विविध

महेंद्र सिंह धौनी के जन्मदिवस पर इस मृदुभाषी को शुभेच्छाएँ

वर्त्तमान में सबसे अनुभवी और अविचलित क्रिकेटर ‘पद्मभूषण’ महेंद्र सिंह धौनी के जन्मदिवस पर कोरोना कहर से बचते हुए शुभकामनाएँ ! मेरे FB फ्रेंड श्री संजय पांडेय उनके साथ टेनिस बॉल के साथ खेले हैं ! अरे वाह संजय जी ! MS के एक मैच मैंने राजेन्द्र स्टेडियम, कटिहार में देखा था । राँची में एकबार मिलने का अवसर मुझे भी प्राप्त हुआ। आपके पास MS से जुड़ने का और भी संस्मरण होंगे, तो मेरे मैसेंजर पर लिख भेजिए । मैं आपके और उनसे संबंधित जानकारियों पर पोस्ट लिखूँगा, संजय जी ! यह गर्व ही नहीं, गौरव की बात है । विकिपीडिया के अनुसार, महेंद्र सिंह धोनी का जन्म बिहार के राँची (अब झारखंड) में एक मध्यवर्गीय राजपूत परिवार में हुआ। उनके पिता का नाम पान सिंह और माता श्रीमती देवकी देवी है । उनके पिताजी श्री पान सिंह राँची में ही मेकोन कंपनी के जूनियर मैनेजमेंट वर्ग में काम करते थे। मेकॉन लिमिटेड कंपनी केंद्र सरकार के स्वामित्ववाली एक सार्वजनिक क्षेत्र मे आनेवाली कंपनी है। रांची में पान सिंह और उनके परिवार को रहने के लिए सरकारी निवासस्थान मिला था। धौनी की माता श्रीमती देवकी देवी रही हैं । धौनी की एक बहन है, जिनका नाम जयंती है और एक भाई है, जिनका नाम नरेन्द्र है। धोनी का बडा भाई नरेंद्र सिंह राजनीति में कार्यरत हैं और उनकी बहन जयंती गुप्ता एक शिक्षिका है। पहले धौनी के बाल लम्बे हुआ करते थे, जो अब उन्होंने कटवा लिए हैं, क्योंकि वे अपने पसंदीदा बॉलीवुड स्टार जॉन अब्राहम जैसे दिखना चाहते थे।

धौनी एडम गिलक्रिस्ट के प्रशंसक है और बचपन से ही उनके आराध्य हैं, उनके क्रिकेट सहयोगी भारतरत्न सचिन तेंदुलकर, शताब्दी के महानायक अमिताभ बच्चन और भारतरत्न महान गायिका लता मंगेशकर हैं। MS धौनी जे वी एम, श्यामली, रांची में पढ़ते थे। धौनी को बैडमिंटन और फुटबॉल में भी विशेष रुचि थी। इंटर-स्कूल प्रतियोगिता में धौनी ने इन दोनों खेलों में स्कूल का प्रतिनिधित्व किया था, जहां उन्होंने अच्छा प्रदर्शन दिखाया, जिस कारण वे जिला व क्लब लेवल में चुने गए थे। धौनी अपने फुटबॉल टीम के गोलकीपर भी रहे चुके हैं। उन्हें लोकल क्रिकेट क्लब में क्रिकेट खेलने के लिए उनके फुटबॉल कोच ने भेजा था। हालांकि उसने तबतक कभी क्रिकेट नहीं खेला था, फिर भी धौनी  ने अपने विकेट कीपिंग के कौशल से सबको प्रभावित किया और कमांडो क्रिकेट क्लब 1995-98 में नियमित विकेटकीपर बने। क्रिकेट क्लब में उनके अच्छे प्रदर्शन के कारण उन्हें 1997-98 सीज़न के वीनू मांकड़ ट्राफी अंडर 16 चैंपियनशिप में चुने गए, जहां उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया। 10वीं कक्षा के बाद ही धौनी ने क्रिकेट की ओर विशेष ध्यान दिया और बाद में वे एक अच्छे क्रिकेटर बनकर उभरे।

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply