बाल कविता

हम स्कूल चलेंगे

हम स्कूल चलेंगे जहाँ हम खूब पढेंगे,

सीखेगे अच्छी बाते और पायेंगे ज्ञान,
पढ़ लिखकर हम बनेंगे अच्छे और महान,
हाँ,हम स्कूल चलेंगे जहाँ हम खूब पढेंगे।
प्रार्थना सभा मे मिल गाएंगे राष्ट्रीय गान,
सबको बतायेंगे कि है मेरा भारत देश महान,
हाँ,हम स्कूल चलेगे जहाँ हम खूब पढेंगे।
पढेंगे हिन्दी,अंग्रेजी,संस्कृत और विज्ञान,
पायेंगे गुरूजन से गणित का सारा ज्ञान,
हाँ,हम स्कूल चलेंगे जहाँ हम खूब पढ़ेगे।
हम प्रेम और भाईचारा से रहना सीखेंगे,
भूल से भी आपस मे न हम कभी लडेंगे,
हाँ,हम स्कूल चलेगे जहाँ हम खूब पढेंगे।
हाँ,हम स्कूल चलेंगे जहाँ हम खूब पढेंगे।।
— अभिषेक शुक्ला

परिचय - अभिषेक शुक्ला

सीतापुर उत्तर प्रदेश मो.न.7007987300 नवोदित रचनाकार है।आपकी रचनाएँ वास्तविक जीवन से जुडी हुयी है।आपकी रचनाये युवा पाठको को बहुत ही पसंद आती है।रचनाओ को पढ़ने पर पाठक को महसूस होता है कि ये विषयवस्तु उनके ही जीवन से जुडी हुयी है।आपकी रचनाये अमर उजाला, रचनाकार,काव्यसागर तथा कई समाचार पत्रो व पत्रिकाओ मे प्रकाशित हो चुकी है।आपकी कई रचनाये अमेरिका से प्रकाशित विश्व प्रसिद्ध मासिक पत्रिका "सेतु "मे भी प्रकाशित हुई है।

Leave a Reply