लघुकथा

सादा जीवन उच्च दर्शन

अंतिम वर्ष की परीक्षा में सम्मिलित होने का आदेश पारित हुआ और मैंने वर्गोंन्नति पाई यानी परीक्षा परिणाम मेरे पक्ष में रहा, टॉपर कहलाया, किंतु गर्वता को कोई स्थान नहीं दिया मैंने ! परिजन और प्रियजन मिलने को आने लगे थे, किंतु मैं अपने में खोया रहा था, कुछ पाने, कुछ देने, कुछ कसकने को । पहनावे को मैं सिर्फ 2 जोड़े फुलपैंट-शर्ट ही रखा था मैंने । एक जोड़े शरीर के साथ, दूसरी जोड़ी पीठ पर लड़नेवाली बैग के अंदर।  अत्याधुनिक सुविधा से वंचित एक लॉज में रहता था, ताकि किराया कम देना पड़े । इसबार की डीपी में पिताजी ने कुछ अधिक रुपये मनीऑर्डर कर दिए थे, ताकि जीन्स-टीशर्ट खरीदी मैं ! …..किंतु पहनावे से दर्शन उच्च थोड़े होते हैं, इसलिए उन अतिरिक्त रुपयों की मैंने दर्शन की पुस्तकें खरीद लिए थे ! जीन्स-टीशर्ट पहनने का विचार तब भी मन में नहीं था, आज भी नहीं है।

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply