गीतिका/ग़ज़ल पद्य साहित्य

ग़ज़ल

अलग अलग बात करते सब, नहीं जाने ये’ जीवन को
ये’ माया मोह का चक्कर है’ कैसे काटे’ बंधन को|
किए आईना’दारी मुग्ध नारी जाति को जग में
नयन मुख के सजावट बीच भूले नारी’ कंगन को |
सुधा रस फूल का पीने दो’ अलि को पर कली को छोड़
कली को नाश कर अब क्यों उजाड़ो पुष्प गुलशन को|
बदी की है वही जिसके लिए हमने दुआ माँगी
न ईश्वर दोस्त ऐसे दे मुझे या मेरे दुश्मन को |
निगाह तेरी बड़ी पैनी मेरे दिल छेद डाली है
जिगर है खूंचकाँ मेरे, सँभालो नज्र सोजन को |
धरा पर है अभी फिर आसमां पर है, ये’ मन चंचल
नियंत्रण करना’ है मुश्किल बड़ा मन तीव्र तौसन को |
नया मौसम नया दस्ता नया है खेत खलिहान आज
कभी हम देखते हैं खेत फिर आबाद खिरमन को |
लुटेरा और नेता कर्म से तो एक जैसे हैं
भले दो नेता’ को गाली, दुआ ही देना’ रहजन को |
घटा छाया दिवाकर भी छुपा, सावन बहुत रोया
सुनाए ना सुने ‘काली’ हरी चूड़ियों की’ खनखन को |

कालीपद ‘प्रसाद’

परिचय - कालीपद प्रसाद

जन्म ८ जुलाई १९४७ ,स्थान खुलना शिक्षा:– स्कूल :शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय ,धर्मजयगड ,जिला रायगढ़, (छ .गढ़) l कालेज :(स्नातक ) –क्षेत्रीय शिक्षा संस्थान,भोपाल ,( म,प्र.) एम .एस .सी (गणित )– जबलपुर विश्वविद्यालय,( म,प्र.) एम ए (अर्थ शास्त्र ) – गडवाल विश्वविद्यालय .श्रीनगर (उ.खण्ड) कार्यक्षेत्र - राष्ट्रीय भारतीय सैन्य कालेज ( आर .आई .एम ,सी ) देहरादून में अध्यापन | तत पश्चात केन्द्रीय विद्यालय संगठन में प्राचार्य के रूप में 18 वर्ष तक सेवारत रहा | प्राचार्य के रूप में सेवानिवृत्त हुआ | रचनात्मक कार्य : शैक्षणिक लेख केंद्रीय विद्यालय संगठन के पत्रिका में प्रकाशित हुए | २. “ Value Based Education” नाम से पुस्तक २००० में प्रकाशित हुई | कविता संग्रह का प्रथम संस्करण “काव्य सौरभ“ दिसम्बर २०१४ में प्रकाशित हुआ l "अंधरे से उजाले की ओर" मुक्तक एवं काव्य संग्रह २०१५ में प्रकाषित | साझा गीतिका संग्रह "गीतिका है मनोरम सभी के लिए " २०१६ | उपन्यास "कल्याणी माँ " २०१६ में प्रकाशित |

Leave a Reply