भजन/भावगीत

आशुतोष है,चंद्रमौली है

आशुतोष है,चंद्रमौली है, शिवशंकर कहलाता है,
महाकाल बनकर के बैठा, वो उज्जैयनी वाला है।
एक हाथ में माला उसके, एक हाथ में भाला है,
एक रूप विकराल है तो, एक सुन्दर सौम्य निराला है।
गल मुंडों की माल है उसके, सिष चन्द्रमा साजा है,
कंठ गरलमय, गंग सिष पर, रूप अघोरी धारा है।
भस्म रमाता तन पर अपने, भांग का भोग लगाता है,
पशुपति है भूतनाथ है, नंदी उसको प्यारा है।
केदारा है, विश्वनाथ है, ये ओंकारेश्वर वाला है,
त्रयंबक है, भीमाशंकर है, सोमनाथ मनभाता है।
नागेश्वर है, घृष्णेश्वर है ,बैद्यनाथ कहलाया है,
मल्लिकार्जुन बनकर इसने अद्भत रूप दिखाया है।
रामेश्वर की पूजा करके, राम दसानन तारा है,
महाकालेश्वर बनकर इसने त्रिपुरासुर संहारा है।
मुंडों का है हार गले में सति पति कहलाता है,
डाकिनी शाकिनी भूत पिशाचिनी सबका ये रखवाला है।
भूतनाथ के स्वेद से, मंगलनाथ रूप धर आया है
काल भैरव बनकर के बैठा, मदिरा भोग लगाया है।
ये उज्जैयनी का है ये राजा, प्रलयंकर कहलाता है
जो भी इसकी शरण में आता भवसागर तर जाता है।
— पंकज कुमार शर्मा ‘प्रखर’
भाला-त्रिशूल
गरलमय-विष से भरा
भूतनाथ- शिव का एक तांत्रिक नाम
स्वेद- पसीना
प्रलयंकर-विनाश करने वाला

परिचय - पंकजकुमार शर्मा 'प्रखर'

लेखक एवं वरिष्ठ स्तम्भकार हुआ यूँ की ज़िन्दगी थोडा ठहरी और वक्त मिला भावनाओं को शब्दों में व्यक्त करने का तो अपने आस-पास घटने वाली समस्याओं से मन कसमसाया और अचानक ही दृश्य शब्दों के रूप में परिवर्तित होकर कागज़ पर उभर आये | पिछले दो तीन वर्षों से लिख रहा हूँ मेरे लेख,कहानियाँ और व्यंग कई राष्ट्रीय समाचार पत्र और पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके है| मेरा सबसे प्रथम लेख था “हिन्दी का दयनीय वर्तमान” और सबसे पहली व्यंग रचना थी“असहिष्णुता ”जो लोगों द्वारा बहुत पसंद की गई| आज भी पूरी ईमानदारी के साथ अपने लेखों का नियमित सृजन कर रहा हूँ...................... ,

Leave a Reply