कविता

रक्षाबंधन

हाथ में राखी ललाट पर चंदन ।
भाई बहन की पावन रक्षाबंधन ।।
स्नेह के  धार में बह रही दुनिया  ,
कौन कर सकता है महिमामंडन ।
जेब खाली अक्सर रहता भाईयों का ,
बहने जब देती है दिल से अभिनंदन ।
हाथों में राखी की डोर अति शुभनिय ,
सौभाग्य भाई ललाट पर लाल चंदन ।
लाख छुपाए कर ले दुश्मन दुनिया ,
अटूट है भाई बहन का  यह बंधन ।
हाथ में  राखी ललाट पर चंदन ।
भाई बहन की पावन रक्षाबंधन ।।
— ‘मनोजवम्’ 

परिचय - मनोज शाह 'मानस'

सुदर्शन पार्क , मोती नगर , नई दिल्ली-110015 मो. नं.- +91 7982510985

Leave a Reply