मुक्तक/दोहा

मुंशी प्रेमचन्द को समर्पित मुक्तक

गोदान ग़बन और रंगभूमि हाँ कर्मभूमि के दाता हो,
नारी – जीवन   के   संघर्षों  के  तुम  ही  उद्गाता हो,
दीन-हीन के नायक तुम हो कृषक वेदना का स्वर हो,
मानसरोवर के मराल तुम, कथा जगत के त्राता हो।।

डॉ. शशिवल्लभ शर्मा

परिचय - डॉ. शशिवल्लभ शर्मा

विभागाध्यक्ष, हिंदी अम्बाह स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय, अम्बाह जिला मुरैना (मध्यप्रदेश) 476111 मोबाइल- 9826335430 ईमेल-dr.svsharma@gmail.com

Leave a Reply