राजनीति

देश के एक ‘विचित्र’ चाणक्य; जो शिक्षकों के दुश्मन हैं ?

देश के एक ‘विचित्र’ चाणक्य; जो शिक्षकों के दुश्मन हैं ?

श्री कुमार को कभी ‘भारतरत्न वाजपेयी जी’ ने भारतीय राजनीति का चाणक्य कहा था । प्राचीन चाणक्य (विष्णुगुप्त) ने कहा था- ‘जिस शासन में या जिस प्रांत में या जिस सत्ता द्वारा शिक्षकों की कद्र न की जाय व शिक्षक इच्छित फल हासिल न कर सके, तो ऐसे शासक व राजा राजगद्दी पर  बैठने मात्र के अधिकारी नहीं है ।’ यह आधुनिक चाणक्य को जरा सी भी शिक्षकों के प्रति न प्रेम है, न अनुराग, न उनकी दुर्दशा पर पीड़ा ! चेतिये महाराज ! आज के चंद्रगुप्त जनता-जनार्दन है !

थोड़ी-सी भी शर्म अगर बची है दोनों सरकारों में, तो….

जब राज्य सरकार के साथ-साथ केंद्र सरकार भी यह कह रहा हो कि बिहार के नियोजित शिक्षकों को नियमित शिक्षकों के समान वेतन नहीं दिया जा सकता ! ऐसे में उनमें अगर जरा सी भी शर्म बची है, तो सभी सांसदों और विधायकों को देश व राज्य के लिए अवैतनिक सेवा देनी चाहिए तथा अनिश्चित भविष्य लिए नियोजित शिक्षकों की भांति उन्हें भी पेंशनादि लाभ नहीं दिए जाने चाहिए !

अगर नियोजित शिक्षक पंचायत शिक्षक है, तो सरकार के अफसर ‘टॉर्चर’ क्यों करते हैं?

‘राज्य’ के वकील कहते हैं- नियोजित शिक्षक निकाय शिक्षक हैं, तो पंचायत/जिला परिषद/नगर निगम जाने ! देश की सबसे बड़ी पंचायत-कचहरी माननीय सुप्रीम कोर्ट है, उनका कहना है, पंचायत ही सबकुछ है, तो आप (सरकार) वहां क्या करते हैं ? आपके शिक्षा पदाधिकारी घुसपैठिये की तरह विद्यालय क्यों जाते हैं ? राज्य सरकार और केंद्र सरकार का कहना है- नियोजित शिक्षक सरकारी सेवक नहीं हैं, तो उनसे इलेक्शन सम्पन्न कैसे कराते हैं ?
–दोनों सरकार के बोल ‘…. मौसेरे भाई’ की भांति है और दोनों के बर्त्ताव ‘सर्कस’ जैसी है !

नियोजित शिक्षकों के वेतन में इसतरह हो रही कटौती ?

नियोजित शिक्षकों की बहाली से पहले बिहार सरकार द्वारा 3,000 रु साइकिल राशि के लिए, 10,000 रु फर्स्ट डिवीज़न के लिए, 8,000 रु सेकंड डिवीजन के लिए, 54,000 रु बी.ए. पास अविवाहित युवतियों के लिए, 1,000 रु पोशाक के लिए, 500 रु नेपकिन के लिए, 50,000 रु अंतरजातीय विवाह के लिए इत्यादि-इत्यादि नहीं दी जाती थी, ये सभी राशि ‘नियोजित शिक्षकों’ के वेतनों से काटकर दी जाती है ! अगर 243 माननीय विधायक अपने-अपने वेतन- भत्ता और पेंशन न ले और इन योजनाओं के लिए दे दे ! … तो सभी कार्यालय में समान कार्य करनेवालों को समान वेतन मिलने लग जाएंगे !

देश के 3 चालाक राजनेता !

भारत के तीन राजनेता अपने को बेहद चालाक समझते हैं, अगर इनके नामकरण की जाय, तो एक नाम होगा- “अरविंद कुमार बैनर्जी” ! अब तो समझ गए होंगे, एक तो अनशनवीर हैं दिल्लीवाले, दूजे तो बिहार के नियोजित शिक्षकों को परेशान करके, तीजे हैं दूसरे देशों के घुसपैठिये की ऐसी पक्षधर कि रक्तपात कराना चाहती हैं सनक-वीरांगना बंगाल की झाँसा देनेवाली रानी !

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply