मुक्तक/दोहा

दोहे – सखे !

इतनी होती है सखे , तेज कलम में धार ।
पहुँचा सकती कल्पना , सात समंदर पार ।।
रिश्तों में मत खींचना , तुम लम्बी दीवार ।
वरना दुख देगी सखे , छोटी बड़ी दरार ।।
सुननी है तो सुन सखे , आज काम की बात ।
अपनापन रखना सदा , नहीं मिलेगी मात ।।
बच्चों की मुस्कान तो , लेती दिल को जीत ।
इसीलिए रखना सखे , इनसे गहरी प्रीत ।।
सेवा से बढ़कर सखे , नहीं जगत में धर्म ।
वो ही नर इंसान है , जो यह जाने मर्म ।।
— नवीन गौतम

परिचय - नवीन गौतम

नयागाँव - कोटा (राजस्थान) पिन कोड - 324010 मो.नं. - 9057558170

Leave a Reply