गीतिका/ग़ज़ल

कब तक सच्चाई झुठलाएँगे

कब तक  झूठे  इतिहासों  में, सच्चाई झुठलाएँगे,
कब तक अमर शहीद हमारे, आतंकी कहलाएँगे।
माना सत्य – अहिंसा से ही, आजादी हमने पायी,
भारत  के  बँटवारे का दोषी किसको बतलाएँगे?
सत्य – अहिंसा से डरकर अंग्रेज यहाँ से भागे थे,
झपट लिया काश्मीर पाक ने, ये कैसे समझाएँगे?
तीन  रंग  से  बना  तिरंगा, बता रहा है सुनो जरा,
साहस से ही शान्ति और फिर हरियाली कर पाएँगे।
अगर नहीं हम बदल सके अपने फर्जी इतिहासों को,
फिर अगली पीढ़ी को कैसे, मुँह अपना दिखलाएँगे!
एक-दूसरे की आजादी का जब समझेंगे मतलब,
सही मायने में उस दिन आजाद सभी कहलाएँगे।
रामचन्द्र कह गए लखन से, बिन भय प्रेम नहीं होता,
अवध  आत्मनिर्भर  बनकर ही, विश्वगुरु कहलाएँगे।
— डॉ अवधेश कुमार अवध

परिचय - डॉ अवधेश कुमार अवध

नाम- डॉ अवधेश कुमार ‘अवध’ पिता- स्व0 शिव कुमार सिंह जन्मतिथि- 15/01/1974 पता- ग्राम व पोस्ट : मैढ़ी जिला- चन्दौली (उ. प्र.) सम्पर्क नं. 919862744237 Awadhesh.gvil@gmail.com शिक्षा- स्नातकोत्तर: हिन्दी, अर्थशास्त्र बी. टेक. सिविल इंजीनियरिंग, बी. एड. डिप्लोमा: पत्रकारिता, इलेक्ट्रीकल इंजीनियरिंग व्यवसाय- इंजीनियरिंग (मेघालय) प्रभारी- नारासणी साहित्य अकादमी, मेघालय सदस्य-पूर्वोत्तर हिन्दी साहित्य अकादमी प्रकाशन विवरण- विविध पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशन नियमित काव्य स्तम्भ- मासिक पत्र ‘निष्ठा’ अभिरुचि- साहित्य पाठ व सृजन

Leave a Reply