कविता

पाठक की कलम से- 2

सुदर्शन खन्ना के फेसबुक से साभार.

कविता क्या है?
कविता जीवन का सार समेट लेती है
चंद शब्दों में, गौरवगाथा सुना देती है
कभी प्रेम रस धारा बहा कर
संवेदनाओं को अलंकृत कर देती है
कभी करुणा की पुकार बन
हमें हमारे कर्मों के प्रति सचेत कर देती है
कवि के कोमल हृदय का आइना होती है रचना
रंगबिरंगे सपनों से सजी हुई कवि की कल्पना
मन के भावों को झंकृत करके पीड़ा हरती कविता की संवेदना.
-चंचल जैन

सदाबहार काव्यालय: तीसरा संकलन- 9 की प्रतिक्रिया से साभार.

इस ब्लॉग को भी पढ़ें-
लीला तिवानी जी – एक विलक्षण व्यक्तित्व

लीला तिवानी जी – एक विलक्षण व्यक्तित्व

पुनश्च-

इस ब्लॉग के कामेंट्स में आए चुनिंदा बधाई-संदेश 28 सितंबर के जन्मदिन विशेष ‘विशेष सदाबहार कैलेंडर- 163’ में प्रकाशित किए जाएंगे.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।

One thought on “पाठक की कलम से- 2

  1. सुदर्शन भाई जी, राजकुमार भाई जी, आप सब लोग बहुत-बहुत धन्यवाद के पात्र हैं. आप सबने अपनी-अपनी तरह से भावनाएं व्यक्त करके हमारे जन्मदिन को विशेष बना दिया है.आप सबको हार्दिक धन्यवाद. इस बार तो हम 9 सितंबर से ही अपना जन्मदिन मना रहे हैं और अब तक मना रहे हैं. चंचल जी, आपने सदाबहार काव्यालय: तीसरा संकलन- 9 की प्रतिक्रिया में ‘कवि, तुम क्या हो?” के संदर्ह में सहज रूप से ही बहुत सुंदर कविता लिख दी- ”कविता क्या है?” अअप सब लोगों का बहुत-बहुत शुक्रिया.

Leave a Reply