अन्य लेख

शैक्षिक परिदृश्य

शिक्षा पदाधिकारी विद्यालय आएंगे और बिना पूछे हेडमास्टर की कुर्सी पर बैठ जाएंगे, फिर तुरंत फरमान देंगे- ‘टीचर्स अटेंडेंस लाइये !’ फिर किसी शिक्षक की अनुपस्थिति अथवा सीएल पिटिशन पर मीन-मेख शुरू और लाल-हरे कलम दौड़ा देंगे! फिर शिक्षकों की परेड शुरू !

माना शिक्षा पदाधिकारी ‘प्रशासक’ हैं, किन्तु उन शिक्षकों के अभिभावक भी तो हैं ! उन्हें ऐसे कृत्य से दूर रहने चाहिए, ताकि उनके कृत्य ‘हॉरर’ न लगे !
••••••
शिक्षा पदाधिकारी अपने बच्चों को सरकारी विद्यालय में नहीं पढ़ाते हैं, किन्तु सरकारी विद्यालयों में औचक निरीक्षण के नाम पर वे ‘शिक्षकों’ को विद्यार्थी के समक्ष उलजुलूल प्रश्न कर और उत्तर न पा उन्हें बेइज्जत जरूर करते हैं ! अगर वैसे शिक्षा पदाधिकारी से ये शिक्षक प्रतिप्रश्न पूछ लें तो अनुशासनहीनता और कर्त्तव्यहीनता के लिए ‘सो कॉज’ तय है !
••••••
ऐसे कई शिक्षा पदाधिकारियों और विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग के द्वारा जारी पत्र और सूचना में हिंदी शब्द  लेखन और वाक्य-संयोजन में काफी अशुद्धियाँ देखी गई है !
••••••
छात्र या छात्राएँ; जहाँ विद्यालय में सामान्यतः 6 घंटे रहते हैं, जबकि  घर पर 18 घंटे रहते हैं । यह कैसी दोहरी नीति है, 6 घंटे वाले को दोषी ठहराते हैं, किन्तु 18 घंटे ‘अभिभावक’ के पास रहने पर भी यानी साक्षर अभिभावक को भी दोषी नहीं मानते हैं! ऐसे में शिक्षकों में हीनभावना भरती चली जाती है।

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply