सामाजिक

साफी, दातुन और सत्तू

हर व्यक्ति को रोज बैठकर ‘पोंछे’ (साफी) लगाने चाहिए, चलते हुए ब्रश (दातुन या दतवन) करने चाहिए और रोज नाश्ते में ‘सत्तू’ खाने चाहिए।
हम जितनी ‘चिकनाई’ चीज खाएंगे, उतनी ही शरीर को क्षति पहुँचेगी !
आप मोटे चावल, मोटी रोटी, गोटा दाल, मौसमी सब्जी नहीं खायेंगे, तो शरीर में कई बीमारियाँ गृह कर जाएगी।
रंग वाले हरी सब्जियों से अच्छा है, ‘खमरालु’ का चोखा खा लें !
मेरा परिवार अभी भी खाँसी होने पर ‘हरवाकस पत्ते’ का जूस पीते हैं ! किसी गरीब को बीपी बढ़ते व डायबिटीज होते सुना है । ऐसी घटना की सूचना अत्यल्प ही है !
फिर तो–
“मुलायम धूप,
गर्म बर्फ,
नीली घास,
रात्रि इंद्रधनुष,
सफ़ेद क्रोध,
अग्नि ठंड,
क्षमातु बाघ,
क्रुद्ध ममता,
अडिग संत,
सभी विपरीत है
और इनके ज़ज़्बे के साथ,
जो प्रक्रम या इंसान का अक़्स
उभरता है….
वो मेरे मनु का है
कि तुम्हारे शब्द स्वागत के लिए बने हैं
मुलायमी स्वागत के लिए,
जैसे- रूह को रूई से ढँक दिया गया हो
या पत्ते पर रंग-बिरंगे चींटी दौड़ लगा रहे हों
कि ऊँघते ऐसे लोगों के लिए
धरती ही बिछौना हो
हाँ, भइया,
पैसे से नींद की गोली खरीद सकते हो,
सिर्फ़ नींद नहीं !”

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply