गीतिका/ग़ज़ल

गीतिका

गम भुलाकर सदा मुस्कुराते चलो
लक्ष्य है सामने पग बढ़ाते चलो
..
तम निराशा का घेरे अगर राह में
दीप तुम हौसलों के जलाते चलो
..
हाथ में है कलम तो लिखो कुछ नया
आईना इस जहां को दिखाते चलो
..
नेकियाँ ही बचेंगी जमाने में बस
हो सके तो दुआएं कमाते चलो
..
सरहदों में न खुद को रखो बाँधकर
अपनी राहें नई तुम बनाते चलो
..
ख्वाहिशों का समंदर है गहरा बहुत
कश्तियों को किनारे लगाते चलो
..
प्रकृति से लिया है बहुत कुछ रमा
फ़र्ज़ है पेड़ कुछ तो लगाते चलो
..
रमा प्रवीर वर्मा
नागपुर, महाराष्ट्र

परिचय - रमा वर्मा

श्रीमती रमा वर्मा श्री प्रवीर वर्मा प्लाट नं. 13, आशीर्वाद नगर हुड्केश्वर रोड , रेखानील काम्प्लेक्स के पास नागपुर - 24 (महाराष्ट्र) दूरभाष – ७६२०७५२६०३

Leave a Reply