धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

विशेष सदाबहार कैलेंडर- 163

(आदरणीय लता दीदी के जन्मदिवस दिवस पर विशेष)

1.एक और नई उम्मीदों भरी सुबह आई है,
सूरज के उजास को भी साथ लाई है,
हमारी दोस्ती का ये असर भी तो देखो,
हवाएं भी आपको ‘जन्मदिन मुबारक’ कहने आई हैं.

2.दिलों में खुशियों का, घर में सुखों का वास हो,
हीरे-मोती का आपके सिर पर ताज हो,
मिटें दूरियां, सब आपके आस-पास हों,
हर दिन आपके लिए ख़ास हो.

3.जिस दिन तम हट जाएगा
यह जग जगमग हो जाएगा
है कठिन, मगर होगा ज़रूर
वह दिन निश्चय ही आएगा.

4.जो चढ़ समय के अश्व पर,साधे लक्ष्य लगाम,
उसी की होती जीत है,उसी का होता नाम.

5.जिंदगी गुजरे आपकी हंसते-हंसते,
प्यार और खुशी मिले रस्ते-रस्ते,
हो मुबारक आपको नया सवेरा,
कबूल करें हमारी तरफ से सलाम-नमस्ते.

6.जिंदगी में इस हुनर को आजमाना चाहिये,
जंग जब अपनों से हो तो हार जाना चाहिये.
जिंदगी जीने के इस हुनर को जिसने सीख लिया,
जंग में हार कर भी उसने मैदान जीत लिया.

7.साधना व प्रार्थना से मस्तिष्क का नज़रिया बदलते ही,
आपका जीवन मंगलमय हो जाएगा.

8.रिश्ते पंछियों के समान होते हैं,
ज़ोर से पकड़ो तो मुरझा सकते हैं,
धीरे से पकड़ो तो उड़ सकते हैं,
लेकिन प्यार से पकड़ कर रखो,
तो ज़िंदगी भर साथ में रहते हैं.

9.खुशी कहां हम तो, ग़म चाहते हैं,
खुशी उसको दे दो, जिसको हम चाहते हैं.

10.वक्त फ़िसलता है रेत की तरह,
हम बस उसे संभालते भूल जाते हैं,
कुछ लोग बहुत ख़ास होते हैं ज़िंदगी में,
हम बस उन्हें बताना भूल जाते हैं.

11.न कोई राह आसान चाहिए,
न कोई मंज़िल पास चाहिए,
एक ही चीज़ मांगते हैं रोज़ उस रब से,
अपनों के चेहरे पर हर पल प्यारी-सी मुस्कान चाहिए.

12.नए रंग हों नई उमंगें, आंखों में उल्लास नया,
नए गगन को छू लेने का, मन में हो विश्वास नया,
धरती से अम्बर तक देखें, इंद्रधनुष हम एक नया,
जीवन में हो नवल लालिमा, मन में हो मधुमास नया.

13.प्रेम व्याप्त है यहां-वहां-सर्वत्र,
प्रेम ही बनाता-बनवाता है मित्र,
प्रेम-सा नहीं है अनमोल भाव इस जहां में,
प्रेम ही है सबसे अधिक सुवासित इत्र.

14.ताज़ी हवा में फूलों की महक हो,
पहली किरण में चिड़ियों की चहक हो,
जब भी खोलें आप अपनी पलकें,
उन पलकों में बस खुशियों की झलक हो.

15.आसमान की बुलंदियों पर नाम हो आपका,
चांद की धरती पर मुकाम हो आपका,
हम तो रहते हैं छोटी-सी दुनिया में,
पर खुदा करे सारा जहां हो आपका.

16.मन से अच्छा होना, खुदा की इनायत है,
अच्छे को अच्छा नजर आना, खुदा की इबादत है.

17.आशावादी व्यक्ति हर आपदा में एक अवसर देखता है;
निराशावादी व्यक्ति हर अवसर में एक आपदा देखता है.

18.जहां भी जाएगा, रोशनी लुटाएगा,
किसी चिराग का अपना मकां नहीं होता.

19.प्रातःकाल सुना-पढ़ा एक छोटा-सा सकारात्मक सुविचार
आपके पूरे दिन को परिवर्तित कर सकता है.

20.सुंदरता से बढ़कर चरित्र है,
प्रेम से बढ़कर त्याग है,
दौलत से बढ़कर मानवता है,
परंतु सुंदर रिश्तों से बढ़कर
इस दुनिया में कुछ भी नहीं है.

21.कुदरत वो जन्नत है, जिसका जर्रा-जर्रा कयामत है,
कुदरत वो गज़ल है, जो ऊपरवाले की नियामत है.

22.जिंदगी की किताब में धैर्य के कवर का होना जरूरी है,
क्योंकि वही हर पन्ने को बांधकर रखता है.

23.किसी भी कार्य की दिशा में बढ़ाया गया प्रथम कदम,
सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होता है,
क्योंकि प्रथम कदम ही मार्ग को प्रशस्त करता है.

24.किसी को खुशी देने से पहले खुद को खुशी मिलती है,
मुस्कुराने से मन की सदाबहार कली खिलती है.”

25.वृक्षों पर सज रही नये पत्तों की बहार,
हरियाली से महकता रहे प्रकृति का व्यवहार,
चारों तरफ हैं मौसम के मेले-ही-मेले,
हर कोई कर रहा खुशियों का सत्कार

26.व्यवहार अच्छा तो मन ही मंदिर,
आहार अच्छा तो तन ही मंदिर,
विचार अच्छे तो मस्तिष्क ही मंदिर
और अगर तीनों अच्छे तो जीवन ही मंदिर.

27.नन्हे-नन्हे सेनानी हम, देश में अलख जगाएंगे,
मातृभूमि की बलिवेदी पर, अपनी जान लुटाएंगे.

28.जीवन हो खुशियों का सागर,
भरी रहे प्रभु-कृपा से गागर,
लगा रहे आनंद का मेला हरदम
आत्मसंयम और अनुशासन की आप हों आगर.”

29.खुशियों का सागर लहराता रहे,
आपकी सुर-लहरी का जादू गहराता रहे,
हर साल जन्मदिन आता रहे,
आपको और हमें हर्षाता रहे.

30.प्रत्येक कृति में सुंदरता होती है,
लेकिन हर कोई इसे देख नहीं सकता.

31.जन्मदिवस की बधाई हो,
खुशियों की शहनाई हो,
उठे नज़र जिस ओर, जिधर भी,
मस्त बहारें छाई हों.

प्रस्तुत है पाठकों के और हमारे प्रयास से सुसज्जित विशेष सदाबहार कैलेंडर. कृपया अगले विशेष सदाबहार कैलेंडर के लिए आप अपने अनमोल वचन भेजें. जिन भाइयों-बहिनों ने इस सदाबहार कैलेंडर के लिए अपने सदाबहार सुविचार भेजे हैं, उनका हार्दिक धन्यवाद.

हर सुबह एक नया सदाबहार अनमोल वचन निकालने के लिए आप हमारी इस ऐप कम वेबसाइट की सहायता ले सकते हैं-

https://www.sadabaharcalendar.com/

लता मंगेशकर पर लीला तिवानी का ब्लॉग

तुम एक महाकाव्य हो
https://readerblogs.navbharattimes.indiatimes.com/rasleela/%E0%A4%B2-%E0%A4%B2-%E0%A4%A6-%E0%A4%B6-%E0%A4%A6-%E0%A4%A8-%E0%A4%AF-%E0%A4%A4-%E0%A4%AE-%E0%A4%8F%E0%A4%95-%E0%A4%AE%E0%A4%B9-%E0%A4%95-%E0%A4%B5-%E0%A4%AF-%E0%A4%B9/

आज विश्व बेटी दिवस है-
बच्चियों के लिए समर्पित है बेटी दिवस. इस बार डॉटर्स डे (Daughters Day) भारत में 27 सितंबर को मनाया जा रहा है. हर साल इसे सितंबर माह के चौथे रविवार को मनाने की परंपरा है. इंटरनेशनल डॉटर्स डे (World Daughters Day) 28 सितंबर को मनाया जा रहा है. कुछ देशों में इसे 25 सितंबर तो कुछ में 1 अक्टूबर को भी मनाया जाता है. लेकिन, बच्चियों के सम्मान और समानता के प्रतिक वाला यह दिवस अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा और जर्मनी जैसे देशों में भी 27 सितंबर (Daughters Day Date 2020) को ही मनाया जा रहा है. स्वर-कोकिला सम्माननीय लता मंगेशकर भारत की बेटी हैं, आज उनका जन्मदिन है. कल बेटी दिवस के अवसर परभारतीय मूल की एक बेटी कल्पना चावला के सम्मान में एक डिजिटल कवि सम्मेलन हुआ था, जिसमें हमें यह सम्मान पत्र प्राप्त हुआ है-

कल्पना चावला (17 मार्च 1962 – 1 फ़रवरी 2003), एक भारतीय अमरीकी अंतरिक्ष यात्री और अंतरिक्ष शटल मिशन विशेषज्ञ थीं और अंतरिक्ष में जाने वाली प्रथम भारतीय महिला थीं। वे कोलंबिया अन्तरिक्ष यान आपदा में मारे गए सात यात्री दल सदस्यों में से एक थीं।

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।

One thought on “विशेष सदाबहार कैलेंडर- 163

  1. आदरणीय लता दीदी,
    फूलों में खुशबू, हवाओं में ताज़गी है,
    नदियों में पानी, पानी में रवानगी है,
    हम ही नहीं कुल जहान कह रहा है,
    जन्मदिन मुबारक हो, भव्यता से भरी आपकी सादगी है.

Leave a Reply