इतिहास

आजीवन दमारोगी : सम्पूर्ण क्रांति के जनक

‘इंदिरा’ नामक ‘ताला’ की चाभी थे जयप्रकाश नारायण : भारतरत्न जेपी के जन्मदिवस पर सादर नमन ! बात कहाँ से शुरू करूँ ? आजीवन ‘दमा’ रोगी और डायबिटीज़ के मरीज़ रहे क्षीणकायी ‘जयप्रकाश’ ने तो लौह महिला इंदिरा गाँधी को पस्त कर दिए थे । आपात काल का विरोध और ‘सम्पूर्ण क्रांति’ का मंत्र का उच्चारण करनेवाले को न केवल भारतीय, अपितु विदेशी राजनयिक भी जे.पी. नाम से ताउम्र पुकारते रहे, वो भी प्यार से ! तारीख 11 अक्टूबर को उनका जन्मदिवस है । अक्टूबर माह उनसे संबंधित भी रहा है….. जन्मदिवस, मृत्यु दिवस और विवाह तिथि भी अक्टूबर माह में लिए !

बिहार और गुजरात में छात्रों के आंदोलन को सम्पूर्ण भारत में प्रसरण करनेवाले जे.पी. ने और ही सिंहनाद कर इंदिरा-सत्ता की चूलें हिलाकर रख दिये! उस समय बिहार में जे.पी. का मार्च पास्ट पटना में आंदोलनरत थे और बिहार में कांग्रेस की सरकार थी । बिहार के एकमात्र मुस्लिम मुख्यमंत्री अब्दुल गफूर थे, उनके आदेश पर उनकी पुलिस ने आंदोलनरत जे.पी. पर लाठीचार्ज कर दिए । प्रसिद्ध चित्रकार श्री रघु राय ने पुलिस द्वारा लाठी से मार खाते ‘जे.पी.’  के चित्र को अपने कैमरे से खींचा है, जो ऐतिहासिक है । इसी पिटाई से धीरे-धीरे जे.पी. अस्वस्थ होते चले गए और अंततः मृत्यु को प्राप्त हुए ।

आजादी से पहले जे.पी. समाजवादी होते हुए भी क्रांतिकारी ‘स्वतन्त्रता सेनानी’ थे । हज़ारीबाग़ जेल से फरार, ‘आज़ाद दस्ता’ का गठन, नेपाल के जंगलों में विचरण इत्यादि भूमिकाओं से आबद्ध जे.पी. ने आज़ादी के बाद भी स्व-सत्ता के ‘डिक्टेटर’ के विरुद्ध भिड़ पड़े और इंदिरा गाँधी को सत्ताच्युत कर डाले ।

जनता पार्टी की सरकार होने पर सबकोई चाहते थे, वे देश के प्रधानमंत्री बने, किन्तु गाँधी की तरह उन्होंने भी सत्ता ठुकरा दिए! इतना ही नहीं, गाँधी जी की हत्या के लिए जब काँग्रेस ने आर. एस. एस. को दोषी ठहराने लगे, तो वे उस समय काँग्रेसी होने के बावजूद आर.एस.एस. को दोषमुक्त करते हुए कहा- ‘अगर आर.एस.एस. दोषी है, तो मैं भी दोषी हूँ । अगर भारत सरकार में हिम्मत है, तो वह मुझे भी गिरफ्तार करें और दण्डित करें ।’

‘सम्पूर्ण क्रांति’ आम-आदमी को प्राप्त हुई आधी-अधूरी आज़ादी को पूर्णरूपेण स्वायत्तता प्रदान करना था । जब ‘श्री अटल बिहारी वाजपेयी’ की सरकार केंद्र में आई, तब जे.पी. के व्यक्तित्व और कृतित्व पर उन्हें देश के सर्वोच्च सम्मान ‘भारत रत्न’ से मरणोपरांत विभूषित किया गया ।
अभी-अभी दादासाहब फ़ाल्के पुरस्कार हेतु घोषित महानायक श्रीमान अमिताभ बच्चन के जन्मदिवस भी 11 अक्टूबर है । वे अमिताभ से 40 वर्ष बड़े थे ! वर्ष 2020 में जे.पी. की 118वां जन्मगाँठ है, एतदर्थ 119वीं जयंती पर इस ‘भारत रत्न’ को सादर स्मरण और पुण्य श्रद्धांजलि!

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply