भाषा-साहित्य

21 वीं सदी के बेबाक लेखक

जिनसे कई बार मुलाकात हुई है, तो जिनके कई ‘पत्र’ मेरे पास है और जिनकी सम्पादकत्व में ‘हंस’ में कई बार छपा हूँ मैं; उस 21वीं सदी के कबीर व नई कहानी के पिता “राजेन्द्र यादव” की पुण्यतिथि (28 अक्टूबर)  पर सादर नमन और भावभीनी श्रद्धांजलि !

●●साहित्यकार राजेन्द्र यादव का रचना-संसार:-
■कहानी-संग्रह :-
देवताओं की मूर्तियाँ: 1951, खेल-खिलौनेः 1953, जहाँ लक्ष्मी कैद हैः 1957, अभिमन्यु की आत्महत्याः 1959, छोटे-छोटे ताजमहलः 1961, किनारे से किनारे तकः 1962, टूटनाः 1966, चौखटे तोड़ते त्रिकोणः 1987, ये जो आतिश गालिब (प्रेम कहानियाँ): 2008, यहाँ तकः पड़ाव-1, पड़ाव-2 (1989), वहाँ तक पहुँचने की दौड़, हासिल.

■उपन्यास :-
सारा आकाशः 1955 (‘प्रेत बोलते हैं’ के नाम से 1951 में), उखड़े हुए लोगः 1956, कुलटाः 1958, शह और मातः 1959, अनदेखे अनजान पुलः 1963, एक इंच मुस्कान (मन्नू भंडारी के साथ) 1963, मन्त्रविद्धा: 1967, एक था शैलेन्द्र: 2007.

■कविता-संग्रह :-
आवाज तेरी हैः 1960,

■नाटक :-
चैखव के तीन नाटक (सीगल, तीन बहनें, चेरी का बगीचा)

■अनुवाद :-
उपन्यास : टक्कर (चैखव), हमारे युग का एक नायक (लर्मन्तोव) प्रथम-प्रेम (तुर्गनेव), वसन्त-प्लावन (तुर्गनेव), एक मछुआ : एक मोती (स्टाइनबैक), अजनबी (कामू)- ये सारे उपन्यास ‘कथा शिखर’ के नाम से दो खण्डों में- 1994, नरक ले जाने वाली लिफ्ट: 2002, स्वस्थ आदमी के बीमार विचार: 2012

■समीक्षा-निबन्ध :-
कहानीः स्वरूप और संवेदनाः 1968, प्रेमचन्द की विरासतः 1978, अठारह उपन्यासः 1981 औरों के बहानेः 1981, काँटे की बात (बारह खण्ड)1994, कहानी अनुभव और अभिव्यक्तिः 1996, उपन्यासः स्वरूप और संवेदनाः 1998, आदमी की निगाह में औरतः 2001, वे देवता नहीं हैं: 2001, मुड़-मुड़के देखता हूँ: 2002, अब वे वहाँ नहीं रहते: 2007, मेरे साक्षात्कारः 1994, काश, मैं राष्ट्रद्रोही होता : 2008, जवाब दो विक्रमादित्य (साक्षात्कार): 2007.

■सम्पादन :-
एक दुनिया समानान्तरः 1967,
प्रेमचन्द द्वारा स्थापित कथा-मासिक ‘हंस’ का अगस्त 1986 से,
कथा-दशकः हिन्दी कहानियाँ (1981 -90),
आत्मतर्पणः 1994, अभी दिल्ली दूर हैः 1995, काली सुर्खियाँ (अश्वेत कहानी-संग्रह): 1995, कथा यात्रा: 1967, अतीत होती सदी और त्रासदी का भविष्य: 2000 औरत : उत्तरकथा 2001, देहरी भई बिदेस, कथा जगत की बाग़ी मुस्लिम औरतें, हंस के शुरुआती चार साल 2008 (कहानियाँ), वह सुबह कभी तो आयेगी (साम्प्रदायिकता पर लेख): 2008.

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply